गुस्से और प्यार की कोई सीमा नहीं होती,प्रेरणादायक कहानी

गुस्से और प्यार की कोई सीमा नहीं होती,प्रेरणादायक कहानी
Last Updated: Thu, 14 Jul 2022

हमारे देश में कहानी कहने की परंपरा काफी प्राचीन है। हम बचपन से ही अपने दादा-दादी, चाची और चाचाओं से कहानियाँ सुनकर बड़े हुए हैं। लेकिन आज की डिजिटल दुनिया में ऐसा लगता है कि कहानियाँ साझा करने की परंपरा धीरे-धीरे ख़त्म होती जा रही है। कहानियों के माध्यम से बच्चों के साथ-साथ वयस्क भी बहुत कुछ सीखते और समझते हैं। हमारा प्रयास नई कहानियों के साथ आपका मनोरंजन करना है, प्रत्येक कहानी एक संदेश देती है। हमें उम्मीद है कि आप सभी को हमारी कहानियाँ पसंद आएंगी। यहां आपके लिए एक दिलचस्प कहानी है:

 

"गुस्से और प्यार की कोई सीमा नहीं," एक प्रेरणादायक कहानी

एक बार, एक आदमी अपनी बिल्कुल नई कार को प्यार से पॉलिश कर रहा था, तभी उसकी 4 साल की बेटी पास आई और एक छोटे से पत्थर से कार पर कुछ लिखने लगी।

कार पर खरोंच देखकर पिता को इतना गुस्सा आया कि उन्होंने अपनी छोटी बेटी का हाथ जोर से पकड़ लिया, जिससे उसकी उंगलियां जख्मी हो गईं.

ये भी पढ़ें:-

दर्द से कराहती लड़की को अस्पताल ले जाया गया।

बच्ची ने रोते हुए मासूमियत से अपने पिता से पूछा, "पापा, मेरी उंगलियां कब ठीक होंगी?"

पछतावे के कारण उत्तर न दे पाने पर पिता चुप रह गये।

वह घर लौटा और कार में लात मारकर अपना गुस्सा निकाला।

थोड़ी देर बाद उसकी नजर अपनी ही हरकत से बेटी के हाथ पर चोट लगने से लगी खरोंच पर पड़ी।

बेटी ने पत्थर पर लिखा था, "आई लव यू डैडी।"

वह आदमी अपने प्रति अत्यधिक क्रोध महसूस करते हुए रोने लगा।

याद रखें, क्रोध और प्रेम की कोई सीमा नहीं होती। चीज़ें उपयोग के लिए हैं, और मनुष्य प्रेम करने के लिए हैं। दुर्भाग्य से, हम अक्सर चीज़ों का उपयोग करते हैं और लोगों का शोषण करते हैं।

यह थी एक दिलचस्प और मजेदार कहानी। ऐसी और भी मजेदार कहानियां पढ़िये subkuz.Com पर।  subkuz.Com पर मिलेगी आपकी हर एक केटेगरी की कहानी वो भी हिंदी भाषा में।

Leave a comment


ट्रेंडिंग