बूढ़े गिद्ध की सलाह, हिंदी कहानियां subkuz.com पर !

बूढ़े गिद्ध की सलाह, हिंदी कहानियां subkuz.com पर !
Last Updated: Fri, 13 Jan 2023

बूढ़े गिद्ध की सलाह, हिंदी कहानियां subkuz.com पर ! 

पेश है प्रसिद्ध और प्रेरणादायक कहानी, बूढ़े गिद्ध की सलाह

किसी घने जंगल में गिद्धों का एक झुण्ड रहा करता था। उनका पूरा झुण्ड एक साथ उड़ान भरते और साथ में ही शिकार करते थे। एक बार वो सभी उड़ते-उड़ते किसी टापू पर पहुंच गएं। वहां बहुत सी मछली और मेंढक रहते थे। उन्हें वह टापू बहुत अच्छा लगा। उसके खाने-पीने और रहने की सारी सुविधाएं उस टापू पर मौजूद थी। सभी गिद्ध उसी टापू पर रहने लगें। अब उन्हें शिकार के लिए कहीं जाना भी नहीं पड़ता था। सभी बिना किसी मेहनत के भरपेट भोजन करते और उस टापू पर आलसी जीवन जीने लगें।

उसी झुण्ड में एक बूढ़ा गिद्ध भी रहता था। वह बूढ़ा गिद्ध यह सब देखकर बहुत परेशान रहता था। उसे अपने साथियों की आलस भरी दशा देखकर चिंता होने लगी। वो सभी गिद्धों को कई बार चेतावनी भी देता कि मित्रों हमें फिर से शिकार के लिए उड़ान भरनी चाहिए, ताकि हम अपना शिकार करने की कला को और भी मजबूत बनाए रख सकें। अगर ऐसे ही आलस करेंगे, तो एक दिन हम शिकार करना तक भूल जाएंगे। इसलिए, हमें जल्द ही अपने पुराने जंगल में वापस जाना चाहिए। उस बूढ़े गिद्ध की सलाह सुनकर सभी गिद्ध हंसने लगे। वह उसका मजाक बनाने लगे। उन्होंने कहा कि बूढ़ा होने की वजह से इनका दिमाग खराब हो गया है। इसलिए, यह हमें आरामदायक जीवन छोड़कर जाने की सलाह दे रहे है। ये कहकर गिद्धों के झुंड उस टापू से जाने से मना कर दिया। इसके बाद वह बूढ़ा गिद्ध अकेले ही वापस जंगल में लौट गया।

कुछ दिनों के बाद उस बूढ़े गिद्ध ने सोचा कि बहुत समय हो गया, चलो उस टापू पर जाता हूं और वहां पर अपने सगे लोगों और दोस्तों से मिलकर आता हूं। वह बूढ़ा गिद्ध जैसे ही उस टापू पर पहुंचा वहां की हालत देखकर वह हैरान रह गया। वहां का दृश्य बहुत भयावह था। उस टापू पर मौजूद सभी गिद्ध मर गए थे। वहां पर सिर्फ उनकी लाशें ही पड़ी थी। तभी उसे एक कोने में घायल गिद्ध दिखाई दिया। वह उसके पास गया और वहां की हालत के बारे में पूछा। उसने बताया कि कुछ दिन पहले इस टापू पर चीतों का एक झुण्ड आया था। जिन्होंने हम पर हमला कर दिया और सबको मार दिया। हम लोग बहुत समय से उंचा उड़े नहीं थे, तो हम अपनी जान भी नहीं बचा सकें। हमारे पंखो में उनसे मुकाबला करने की क्षमता भी कम हो गई थी। उस घायल गिद्ध की बात सुनकर बूढ़े गिद्ध को बहुत दुख हुआ। उसके मरने के बाद बूढ़ा गिद्ध वापस अपने जंगल में चला गया।

ये भी पढ़ें:-

इस कहानी से यह सीख मिलती है कि - हमें हर हाल में अपनी शक्ति और अधिकारों की रक्षा करनी चाहिए। अगर आलस की वजह से अपना कर्तव्य करना छोड देंगे, तो भविष्य में यह हमारे लिए घातक हो सकता है।

दोस्तों subkuz.com एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहाँ हम भारत और दुनियां से जुड़ी हर तरह के कहानियां और इंफॉर्मेशंस प्रोवाइड करते रहते है. हमारा प्रयास है की इसी तरह से रोचक और प्रेरक कहानियां आप तक सरल भाषा में पहुंचाते रहें . ऐसे ही प्रेरणादायक कथा -कहानियों के लिए पढ़ते रहें subkuz.com

Leave a comment


ट्रेंडिंग