सावन माह में व्रत नहीं रख पाए तो निराश न हों,यें खास कामों को करने से भी होंगे समान पुण्य की भागदारी, जाने पूरी विधि

सावन माह में व्रत नहीं रख पाए तो निराश न हों,यें खास कामों को करने से भी होंगे समान पुण्य की भागदारी, जाने पूरी विधि
Last Updated: Fri, 20 Jan 2023

सावन माह में व्रत नहीं रख पाए तो निराश हों,यें खास कामों को करने से भी होंगे समान पुण्य की भागदारी जानें Do not be disappointed if you are not able to keep fast in the month of Sawan, even by doing these special works, you will get equal share of virtue.

सावन का महीना भगवान शिव को समर्पित है। भगवान शिव का आशीर्वाद पाने के लिए भक्त पूरे महीने या सावन के सोमवार को व्रत रखते हैं। हालाँकि, जो लोग व्रत रखने में असमर्थ हैं वे अभी भी शास्त्रों में वर्णित कुछ निर्धारित कार्यों को करके भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं। सावन, भाद्रपद, आश्विन और कार्तिक ये चार महीने होते हैं जिन्हें चातुर्मास कहा जाता है। ये चार महीने धार्मिक अनुष्ठानों और पूजा-पाठ के लिए बेहद शुभ माने जाते हैं, हालांकि इस दौरान कुछ शुभ कार्य प्रतिबंधित होते हैं। सावन चतुर्मास की शुरुआत का प्रतीक है और यह भगवान शिव की पूजा के लिए समर्पित है। सावन के दौरान, वातावरण आध्यात्मिक हो जाता है, और भक्त भगवान शिव का अभिषेक (अनुष्ठान स्नान) करने के लिए सुबह से ही मंदिरों में इकट्ठा होते हैं। जो भक्त सावन का व्रत रखते हैं उन्हें भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त होता है, वहीं कुछ भक्त केवल सोमवार का व्रत रखते हैं। ज्योतिषाचार्य डॉ. अरविंद मिश्र के मुताबिक जो लोग सावन के महीने में व्रत नहीं रख पाते हैं उन्हें निराश होने की जरूरत नहीं है। वे अभी भी कुछ शास्त्र-अनुमोदित कार्यों को करके भगवान शिव की कृपा अर्जित कर सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप व्रत रखने के समान पुण्य प्राप्त होगा।

 

संपूर्ण शिव परिवार की पूजा करें

अगर आप सावन के महीने में व्रत रखने में असमर्थ हैं तो नियमित रूप से संपूर्ण शिव परिवार की पूजा करें। कहा जाता है कि भगवान शिव के पूरे परिवार की पूजा करने से माता पार्वती और भगवान शिव दोनों का आशीर्वाद प्राप्त होता है। इससे वैवाहिक समस्याएं सुलझती हैं और परिवार में खुशहाली आती है।

 

ये भी पढ़ें:-

शिवलिंग का अभिषेक करें

शास्त्रों में इस शिवलिंग को बहुत शक्तिशाली बताया गया है। सावन के महीने में प्रतिदिन शिवलिंग का जलाभिषेक करें। भगवान शिव को भोलेनाथ के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि वह अपने भक्तों की भक्ति देखकर ही प्रसन्न हो जाते हैं और जल चढ़ाने की साधारण क्रिया से भी प्रसन्न होकर अपने भक्तों के कष्टों को दूर कर देते हैं।

शिव मंत्रों का जाप

सावन के महीने में जितना हो सके भगवान शिव के मंत्रों का जाप करें। इससे भगवान शिव और माता पार्वती की कृपा भी प्राप्त होती है। आप पंचाक्षरी मंत्र "ओम नमः शिवाय" का जाप कर सकते हैं। इसे एक बहुत शक्तिशाली मंत्र माना जाता है, क्योंकि इसमें "ओम" को छोड़कर पांच अक्षर होते हैं, इसलिए इसे पंचाक्षरी मंत्र कहा जाता है। इसके अतिरिक्त, आप पंचाक्षरी स्तोत्र, रुद्राष्टकम, लिंगाष्टकम या शिव सहस्रनाम का पाठ कर सकते हैं।

 

भजन-कीर्तन

आप इस महीने के दौरान भगवान शिव को समर्पित भजन (भक्ति गीत) और कीर्तन (धार्मिक भजन) भी कर सकते हैं। भगवान शिव भावपूर्ण भजन-कीर्तन से अत्यंत प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों को भरपूर आशीर्वाद देते हैं। इसके अतिरिक्त, शास्त्रों में सावन की अमावस्या को पितृ तर्पण (पितरों को तर्पण) और श्रावण पूर्णिमा के दिन उपाकर्म (अनुष्ठान) करने का विधान है।

Leave a comment

ट्रेंडिंग