चुनावी सीजन खत्म होते ही मुखिया ने बदला पैतरा

चुनावी सीजन खत्म होते ही मुखिया ने बदला पैतरा
Last Updated: Tue, 12 Jul 2022

चुनाव जीतने के बाद ग्रामीण अपनी समस्याएं लेकर मुखिया के पास पहुंचते हैं

ग्रामीण: मुखिया जी, गांव में पक्की सड़क नहीं है. बरसात के दिनों में पूरे गांव में कीचड़ हो जाता है, जिससे ग्रामीणों को काफी परेशानी होती है. कृपया हमारे गाँव का भी विकास सुनिश्चित करें।

मुखिया : (खाट पर लेटते हुए) क्या मैंने इसका ठेका ले रखा है?

ग्रामीण: चुनाव प्रचार के दौरान आप हमारे पास हाथ जोड़कर, गांव के बुजुर्गों के पैर छूकर वोट मांगने आए थे. आपने कहा कि हमारे वोट कीमती हैं, कृपया हमें वोट दें। आप भारी मतों से जीते और अब यह कह रहे हैं? आप हमारी बात नहीं सुनेंगे तो कौन सुनेगा?

मुखिया : (जम्हाई लेते हुए) हाँ, आया था, लेकिन जब तुम लोगों ने मेरी बात नहीं मानी, तो मैं तुम्हारी बात क्यों मानूँ? मैंने आपको समझाया और विनती की कि आपका वोट बहुत कीमती है, कृपया हमें वोट करें। लेकिन फिर भी आप नहीं माने, आपने अपना कीमती वोट हमें दान कर दिया... अब परिणाम भुगतो।

ये भी पढ़ें:-

 

 

यह थी एक दिलचस्प और मजेदार कहानी। ऐसी और भी मजेदार कहानियां पढ़ते रहिये subkuz.Com पर क्योंकि  subkuz.Com पर मिलेगी आपकी हर एक केटेगरी की कहानी वो भी आपकी अपनी हिंदी भाषा में।

Leave a comment