ISRO इसरो से जुड़े महत्वपूर्ण रोचक तथ्य एवं जानकारियां, अंतरिक्ष के क्षेत्र में बढ़ाया है इंडिया का गौरव

ISRO इसरो से जुड़े महत्वपूर्ण रोचक तथ्य एवं जानकारियां, अंतरिक्ष के क्षेत्र में बढ़ाया है इंडिया का गौरव
Last Updated: Sat, 20 Aug 2022

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो), जिसे संक्षिप्त रूप में इसरो कहा जाता है, भारत की राष्ट्रीय अंतरिक्ष एजेंसी है जिसका मुख्यालय बेंगलुरु में है। इसमें लगभग सत्रह हजार कर्मचारी और वैज्ञानिक कार्यरत हैं जो विभिन्न वैज्ञानिक गतिविधियों में सक्रिय रूप से शामिल हैं। संगठन का प्राथमिक उद्देश्य भारत के लिए अंतरिक्ष-संबंधी प्रौद्योगिकियों का विकास करना है। अंतरिक्ष कार्यक्रम के मुख्य लक्ष्यों में उपग्रहों, प्रक्षेपण यानों, टोही रॉकेटों और पृथ्वी प्रणालियों का विकास शामिल है।

इसरो की स्थापना 15 अगस्त 1969 को इंडियन नेशनल कमेटी फॉर स्पेस रिसर्च (INCOSPAR) के नाम से की गई थी। आइए इस लेख में इसरो के बारे में कुछ रोचक तथ्य जानें।

इसरो के बारे में रोचक तथ्य:

इसरो का मतलब भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन है, जिसका मुख्यालय बेंगलुरु में स्थित है।

इसरो में लगभग 17,000 कर्मचारी और वैज्ञानिक सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें:-

इसरो ने भारत के लिए 104 उपग्रह और 21 विभिन्न देशों के लिए 79 उपग्रह लॉन्च किए हैं।

भारत में इसरो के कुल 13 केंद्र हैं।

भारत अपने पहले ही प्रयास में सफलतापूर्वक मंगल ग्रह पर पहुंचने वाला पहला देश बन गया, जबकि संयुक्त राज्य अमेरिका, सोवियत संघ, चीन और रूस जैसे अन्य देशों को अपने शुरुआती प्रयासों में विफलताओं का सामना करना पड़ा।

इसरो का बजट नासा द्वारा एक वर्ष में खर्च किये जाने वाले बजट का एक अंश मात्र है; नासा के वार्षिक खर्च की तुलना में इसरो का बजट लगभग 40 वर्षों के खर्चों को कवर करता है।

इसरो ने 2008-2009 में लगभग 350 करोड़ के बजट के साथ चंद्रयान -1 उपग्रह लॉन्च किया था, जो समान मिशनों के लिए नासा के बजट से काफी कम था।

भारत द्वारा लॉन्च किया गया पहला स्वदेशी उपग्रह SLV-3 था। इस उपग्रह के निदेशक डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम थे।

1981 में एप्पल सैटेलाइट को बैलगाड़ी से ले जाया गया था।

पाकिस्तान की अंतरिक्ष एजेंसी सुपारको की स्थापना 1961 में हुई थी, जबकि इसरो की स्थापना 1969 में हुई थी। इसरो ने अब तक 86 उपग्रह लॉन्च किए हैं, जबकि पाकिस्तान की अंतरिक्ष एजेंसी ने विदेशी देशों की मदद से केवल दो उपग्रह लॉन्च किए हैं।

इसरो की इंटरनेट स्पीड 91GBps है, जबकि NASA की इंटरनेट स्पीड केवल 2GBps है।

इसरो का बजट केंद्र सरकार के कुल व्यय का 34% और सकल घरेलू उत्पाद का 0.08% है।

इसरो ने श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र से एक ही मिशन, PSLVC37 में 104 उपग्रहों का रिकॉर्ड लॉन्च किया।

भारत विश्व स्तर पर छह देशों में से एक है जो अपनी धरती से उपग्रह बनाने और लॉन्च करने में सक्षम है।

इसरो ने अंतरिक्ष क्षेत्र में एक नया कीर्तिमान स्थापित करते हुए 14 फरवरी 2017 को एक साथ 104 उपग्रह लॉन्च किए।

इसरो ने 5 जून, 2017 को सबसे भारी उपग्रह, GSAT-19 को ले जाने वाले GSLV MK 3 रॉकेट को लॉन्च किया।

इसरो ने जीपीएस के समान भारत की नेविगेशन प्रणाली स्थापित करते हुए 11 अप्रैल, 2018 को अपना स्वयं का नेविगेशन उपग्रह, आईआरएनएसएस लॉन्च किया।

भारत ने 27 मार्च, 2019 को एंटी-सैटेलाइट मिसाइल (ए-सैट) का सफल परीक्षण किया, जिसमें तीन मिनट में एक भारतीय उपग्रह को नष्ट कर दिया गया।

22 जनवरी, 2020 को इसरो ने गगनयान मिशन के लिए 'व्योममित्र' नामक एक ह्यूमनॉइड रोबोट लॉन्च किया।

डॉ. विक्रम साराभाई ने 1969 में स्वतंत्रता दिवस पर इसरो की स्थापना की थी।

भारत का पहला उपग्रह, आर्यभट्ट, सोवियत संघ द्वारा 19 अप्रैल, 1975 को लॉन्च किया गया था, जो भारत की अंतरिक्ष अन्वेषण यात्रा में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि थीI

भारत का दूसरा उपग्रह भास्कर 7 जून 1979 को पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया गया थाI

1980 में, भारत ने अपने स्वयं के SLV-3 प्रक्षेपण यान का उपयोग करके रोहिणी उपग्रह को लॉन्च किया, और इसे पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया।

अन्य संगठनों की तुलना में इसरो में अविवाहित कर्मचारियों की संख्या सबसे अधिक है।

इसरो के पास दो प्राथमिक रॉकेट, पीएसएलवी और जीएसएलवी हैं, जिनका उपयोग अंतरिक्ष में उपग्रह प्रक्षेपण के लिए किया जाता है।

Leave a comment

ट्रेंडिंग