कुंडली दोष कैसे दूर करें : अगर कुंडली में है चंद्र दोष, तो जरूर अपनाये ये उपाय, निश्चित होगा चमत्कारिक लाभ

कुंडली दोष कैसे दूर करें : अगर कुंडली में है चंद्र दोष, तो जरूर अपनाये ये उपाय, निश्चित होगा चमत्कारिक लाभ
Last Updated: Thu, 22 Feb 2024

कुंडली दोष कैसे दूर करें : अगर कुंडली में है चंद्र दोष, तो जरूर अपनाये ये उपाय, निश्चित होगा चमत्कारिक लाभ 

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चंद्रमा को मन का कारक माना जाता है। जब किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में चंद्रमा से संबंधित दोष होता है, तो यह मानसिक अशांति का कारण बन सकता है, चंद्रमा चिंता का कारण होता है। जन्म कुंडली में चंद्रमा का अशुभ प्रभाव घरेलू समस्याओं, मानसिक विकारों, माता-पिता की बीमारियों, कमजोरी और वित्तीय कठिनाइयों के रूप में प्रकट हो सकता है। ऐसी स्थितियों में, व्यक्ति इन संबंधित कष्टों को कम करने और चंद्रमा की कृपा पाने के लिए चमत्कारी उपाय कर सकता है।

यदि चंद्रमा प्रथम भाव में नीच स्थिति में हो तो घर में चांदी का बर्तन रखने, 24 से 27 वर्ष की आयु के बीच विवाह न करने और घर न बनाने की सलाह दी जाती है। हरे रंग और ससुराल वालों से दूर रहने की भी सलाह दी जाती है और बच्चों की भलाई के लिए नदी में एक सिक्का प्रवाहित करने की सलाह दी जाती है।

दूसरे भाव में चंद्रमा के अशुभ प्रभाव को कम करने के लिए व्यक्ति को चांदी, चंद्रमणि और मिट्टी से पवित्र फर्श से संबंधित गतिविधियों में संलग्न होना चाहिए। साथ ही, मां का आशीर्वाद लेना भी अहम भूमिका निभाता है।

तीसरे घर के लिए, चांदी या चावल से जुड़े धर्मार्थ कार्य करने की सलाह दी जाती है, और कन्या (कन्या) के त्योहार के दौरान, गेहूं या गुड़ का दान करने की सलाह दी जाती है।

ये भी पढ़ें:-

यदि चतुर्थ भाव में चंद्रमा परेशानी दे रहा हो तो दूध और खोया का व्यवसाय न करने की सलाह दी जाती है। किसी भी काम को शुरू करने से पहले घर में मिट्टी के बर्तन में दूध रखने की सलाह दी जाती है।

पंचम भाव में व्यक्ति को लालच और स्वार्थ के आगे झुकने से बचना चाहिए। दूसरों पर भरोसा करने के बजाय खुद की सलाह मानने की सलाह दी जाती है।

छठे भाव के लिए, पिता को अपने हाथों से दूध परोसने की सलाह दी जाती है, और धार्मिक समारोहों के अलावा कहीं भी दूध दान करने से परहेज करने की सलाह दी जाती है।

यदि चंद्रमा सातवें घर में हानि पहुंचा रहा हो तो व्यक्तियों को 24वें वर्ष के दौरान विवाह न करने की सलाह दी जाती है। मां को प्रसन्न रखना और विवाह के समय पत्नी के वजन के बराबर चांदी या चावल लेना शुभ माना जाता है।

आठवें घर में चंद्रमा के प्रतिकूल प्रभाव को कम करने के लिए व्यक्तियों को जुए से दूर रहना चाहिए। किसी मंदिर में चने चढ़ाना शुभ माना जाता है।

नवम भाव में चंद्रमा से संबंधित शांति के लिए घर की अलमारी में चांदी का टुकड़ा रखने की सलाह दी जाती है। मजदूरों को दूध पिलाना भी लाभकारी माना जाता है।

दसवें घर के लिए, व्यक्तियों को चंद्रमा के कारण होने वाली पीड़ा को कम करने के लिए धार्मिक यात्रा करनी चाहिए।

ग्यारहवें घर में चंद्रमा के नकारात्मक प्रभावों या अशुभ परिणामों को कम करने के लिए व्यक्तियों को तपस्वियों को दूध देने से बचना चाहिए और शैक्षणिक या चिकित्सा संस्थानों की शुरुआत नहीं करनी चाहिए। सोने के आभूषण पहनने और ईश्वर की पूजा करने की सलाह दी जाती है।

बारहवें भाव में चंद्रमा की पीड़ा या प्रतिकूल प्रभाव को कम करने के लिए व्यक्तियों को संतों को दूध चढ़ाने से बचना चाहिए। शैक्षणिक या चिकित्सा संस्थान शुरू करने की सलाह नहीं दी जाती है। सोने के आभूषण पहनने और पूजा में शामिल होने की सलाह दी जाती है।

*. श्री चंद्र कवच

श्रीचंद्रकवचस्तोत्रमंत्रस्य गौतम ऋषिः । अनुष्टुप् छंदः।

चंद्रो देवता। चन्द्रप्रीत्यर्थं जपे विनियोगः ।

समं चतुर्भुजं वन्दे केयूरमुकुटोज्ज्वलम् ।

वासुदेवस्य नयनं शंकरस्य च भूषणम् ॥ १ ॥

 

एवं ध्यात्वा जपेन्नित्यं शशिनः कवचं शुभम् ।

शशी पातु शिरोदेशं भालं पातु कलानिधिः ॥ २ ॥

 

चक्षुषी चन्द्रमाः पातु श्रुती पातु निशापतिः ।

प्राणं क्षपाकरः पातु मुखं कुमुदबांधवः ॥ ३ ॥

 

पातु कण्ठं च मे सोमः स्कंधौ जैवा तृकस्तथा ।

करौ सुधाकरः पातु वक्षः पातु निशाकरः ॥ ४ ॥

 

हृदयं पातु मे चंद्रो नाभिं शंकरभूषणः ।

मध्यं पातु सुरश्रेष्ठः कटिं पातु सुधाकरः ॥ ५ ॥

 

ऊरू तारापतिः पातु मृगांको जानुनी सदा

अब्धिजः पातु मे जंघे पातु पादौ विधुः सदा ॥ ६ ॥

 

सर्वाण्यन्यानि चांगानि पातु चन्द्रोSखिलं वपुः ।

एतद्धि कवचं दिव्यं भुक्ति मुक्ति प्रदायकम् ॥

यः पठेच्छरुणुयाद्वापि सर्वत्र विजयी भवेत् ॥ ७ ॥

॥ इति श्रीब्रह्मयामले चंद्रकवचं संपूर्णम् ॥

*. चंद्र मंत्र

ॐ श्रां श्रीं श्रौं स: चन्द्रमसे नम:।

ॐ ऐं क्लीं सोमाय नम:।

ॐ श्रीं श्रीं चन्द्रमसे नम:।

*. चंद्रमा का बीज मंत्र

ॐ श्रां श्रीं श्रौं स: चन्द्रमसे नम:।।

चंद्रमा का वैदिक मंत्र:

ॐ इमं देवा असपत्न सुवध्वं महते क्षत्राय महते

ज्यैष्ठयाय महते जानराज्यायेनद्रस्येन्द्रियाय।

इमममुष्य पुत्रममुष्यै पुत्रमस्यै विश

एष वोमी राजा सोमोस्मांक ब्राह्मणाना राजा।।

*. शिवजी के मंत्र:

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्‌।

उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्।।

Leave a comment