वास्तु शास्त्र में दिशाओं का योगदान

वास्तु शास्त्र में दिशाओं का योगदान
Last Updated: 15 मार्च 2024

वास्तु शास्त्र में दिशाओं का योगदान 

वास्तु शास्त्र के अनुसार दिशाएं बहुत महत्व रखती हैं और इनका व्यक्ति के जीवन से गहरा संबंध होता है। यदि घर के भीतर कोई भी दिशा एक सीध में नहीं है, तो इससे वास्तु दोष उत्पन्न हो सकता है, जो पूरे घर को प्रभावित कर सकता है। वस्तुओं के लेआउट और स्थान के संबंध में वास्तु दिशानिर्देशों का पालन करने में विफलता घर में शांति, सद्भाव और समृद्धि को बाधित कर सकती है, जिससे विभिन्न समस्याएं पैदा हो सकती हैं। वास्तु में पूर्व दिशा का विशेष महत्व है क्योंकि यह सूर्योदय की दिशा का प्रतीक है। जबकि इस दिशा के शासक देवता इंद्र हैं, यह आमतौर पर सूर्य देवता से जुड़ा हुआ है। निर्माण के दौरान, इस दिशा को सबसे अधिक खुला रखना महत्वपूर्ण है क्योंकि सूर्य की रोशनी घर में सबसे पहले पूर्व दिशा की ओर स्थित संरचनाओं में प्रवेश करती है, जिससे सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह आसान हो जाता है। पूर्व-मुखी भूखंड और इमारतें विशेष रूप से लेखकों, शिक्षकों, दार्शनिकों और छात्रों जैसे बुद्धिजीवियों के लिए उपयुक्त हैं क्योंकि यह शांति, समृद्धि और सफलता के लिए अनुकूल वातावरण को बढ़ावा देता है। इस दिशा में वास्तु दोष होने से स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं, पारिवारिक कलह और जीवन में प्रगति में बाधा उत्पन्न हो सकती है। इसलिए, खुशी और खुशहाली सुनिश्चित करने के लिए यह समझना आवश्यक है कि घर में दिशाओं को कैसे बनाए रखा जाए।

 

पूर्व दिशा के वास्तु लाभ:

1. पूर्व दिशा का प्रतिनिधित्व सूर्य देवता करते हैं, जो शुभ शुरुआत की दिशा का प्रतीक है।

ये भी पढ़ें:-

2. पूर्व की ओर मुख्य प्रवेश द्वार का निर्माण सूर्य देवता का सम्मान करता है और भवन में पर्याप्त धूप और वायु प्रवाह सुनिश्चित करता है, जिससे समृद्धि और स्वास्थ्य को बढ़ावा मिलता है।

3. घर के पूर्वी हिस्से में अधिक खुली जगह होने से धन-संपत्ति बढ़ती है और पारिवारिक वृद्धि होती है।

4. पूर्व दिशा में निचली दीवारें वहां रहने वालों को प्रसिद्धि, मान-सम्मान के साथ-साथ दीर्घायु और अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करती हैं।

 

पूर्व दिशा में वास्तु दोष और निवारण:

1. पूर्व दिशा में दोष या पीड़ा या जन्म कुंडली में सूर्य पीड़ित होने पर पिता या पैतृक जनों के साथ तनावपूर्ण संबंध हो सकते हैं।

2. इस दिशा में दोष के कारण सरकार से संबंधित समस्याएं या कानूनी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।

3. पूर्व दिशा में दोष होने पर हृदय, त्वचा, हड्डियों या दांतों से संबंधित स्वास्थ्य समस्याएं प्रकट हो सकती हैं।

4. पूर्व दिशा अवरुद्ध या बंद होने से व्यक्ति को कठिनाइयों में फंसा हुआ महसूस हो सकता है और निर्णय लेने में ज्ञान और लचीलेपन की कमी हो सकती है।

 

सामंजस्यपूर्ण और समृद्ध जीवन वातावरण बनाए रखने के लिए पूर्व दिशा में वास्तु दोषों को समझना और सुधारना महत्वपूर्ण है।

Leave a comment

ट्रेंडिंग