MP News: मध्य प्रदेश और राजस्थान के बीच धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा, महाकाल से खाटू श्याम तक बनेगा आध्यात्मिक कॉरिडोर

MP News: मध्य प्रदेश और राजस्थान के बीच धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा, महाकाल से खाटू श्याम तक बनेगा आध्यात्मिक कॉरिडोर
Last Updated: Mon, 01 Jul 2024

हाल ही में मध्य प्रदेश - राजस्थान के प्रमुख धार्मिक स्थलों को आपस में जोड़ने के लिए आध्यात्मिक कॉरिडोर का निर्माण किया जाएगा। इसके तहत राजस्थान के खाटू श्याम नाथद्वारा मंदिर के साथ ही मध्य प्रदेश के महाकालेश्वर ओंकारेश्वर के लिए वंदेभारत एक्सप्रेस इलेक्ट्रिक बसें चलाने का एलान किया गया है। 

Bhopal: मध्य प्रदेश और राजस्थान की सरकार ने भोपाल में रविवार (30 जून) को एक संयुक्त बैठक की। इस बैठक में MP के सीएम मोहन यादव और राजस्थान के सीएम भजनलाल शर्मा ने कई अहम फैसले लेते हुए एक दोनों राज्यों के मध्य ऐतिहासिक समझौते की शुरुआत की।

फैसला लिया गया कि इन दोनों राज्यों के धार्मिक स्थलों को आपस में जोड़ने के लिए आध्यात्मिक कॉरिडोर बनाया जाएगा। इसके तहत राजस्थान में स्थित खाटू श्याम से मध्य प्रदेश के महाकालेश्वर ओंकारेश्वर के लिए वंदेभारत एक्सप्रेस इलेक्ट्रिक बसें संचालित की जाएगी।

धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा

ये भी पढ़ें:-

subkuz.com को मिली जानकारी के अनुसार, दोनों राज्यों के बीच आध्यात्मिक कॉरिडोर बनाने का मुख्य उद्देश्य पर्यटन सर्किट विकसित करना है। बता दें कि इसी कड़ी में धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए श्रीकृष्ण गमन पथ के साथ दोनों राज्यों में स्थित श्रीकृष्ण से जुड़े सभी धार्मिक स्थलों को एक-दूसरे से जोड़ने पर काम किया जाएगा। आध्यातिम कॉरिडोर को जोड़ने के लिए इलेक्ट्रिक बसें वंदेभारत एक्सप्रेस चलाई जाएगी।

दोनों राज्यों के मध्य MOU पर हस्ताक्षर

बता दें कि रविवार (30 जून) को भोपाल में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव और राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने आयोजित संयुक्त बैठक में कई अहम् फैसले लिए। जिसके तहत पार्वती-कालीसिंध-चंबल परियोजना के क्रियान्वयन को लेकर दोनों राज्यों के मध्य एमओयू (MOU) पर हस्ताक्षर किये।

इस समझौते के तहत ही मुरैना, ग्वालियर,श्योपुर, राजगढ़ सहित 13 जिलों में पीने के पानी और सिंचाई की सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सकेंगी। इस परियोजना के पानी का राजस्थान एवं मध्यप्रदेश में उपयोग होगा।

72 हजार की लागत से बानी इस परियोजना को लेकर भजनलाल शर्मा ने कहा कि पार्वती-कालीसिंध-चंबल परियोजना की मांग काफी लंबे समय से चल रही थी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस बार परियोजना को मूर्त रूप देने का काम किया है। जिसे अब दोनों राज्य मिलकर आगे बढ़ाएंगे। बता दें कि इस परियोजना में कुल 17 बांध बनाए जाएंगे। मोहन यादव ने कहा कि राजस्थान और मध्य प्रदेश मिलकर विकास कार्य को आगे बढ़ाएंगे।

Leave a comment


ट्रेंडिंग