मिथुन राशि राशिफल : 2023 जनवरी से दिसम्बर तक मिथुन राशि वालों के लिए कैसा रहेगा? साल 2023

मिथुन राशि राशिफल : 2023 जनवरी से दिसम्बर तक मिथुन राशि वालों के लिए कैसा रहेगा? साल 2023
Last Updated: Fri, 10 Feb 2023

नया साल शुरू होने से पहले सभी यह जानने के इच्छा रखते हैं कि उनके लिए नया साल कैसा रहेगा। आने वाले साल में उनके जीवन पर ग्रहों-नक्षत्रों का कैसा प्रभाव रहेगा? मिथुन राशि के जातकों के जीवन में एक अच्छा वर्ष साबित हो सकता है क्योंकि सर्वप्रथम शनि की ढैया समाप्त होने से मानसिक तनाव से मुक्ति मिलेगी। 17 जनवरी को जैसे ही शनि मकर राशि छोड़कर कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे, तो आपके भाग्य की वृद्धि होगी और पिछले ढाई साल से चले आ रहे तनाव और चिंता से आपको मुक्ति मिल जायेगी। इस साल के मध्य में देवगुरु बृहस्पति 22 अप्रैल को मेष राशि में प्रवेश कर आपके लाभ स्थान को प्रभावित करते हुए लाभ के मौके बढ़ा देंगे। वहीं राहु-केतु भी 30 अक्टूबर को क्रमशः आपके दशम और चौथे भाव को प्रभावित करेंगे। इस गोचर से राजनीति से जुड़े जातकों को अच्छे परिणाम प्राप्त होने की संभावना दिखाई दे रही है। इसके अलावा मंगल,सूर्य,बुध और शुक्र का गोचर भी समय समय पर आपको सुख देगा और आपके काम रुके हुए थे, वह पूरे होने लगेंगे। 

जनवरी

साल की शुरुआत में राशि स्वामी बुध का गोचर आपके सप्तम भाव से हो रहा है वही शनि आपके आठवें भाव में विराजमान है। गुरु का गोचर आपके दशम भाव से हो रहा है। आपके नए वर्ष की शुरुआत उत्साह के साथ होगी। मंगल का गोचर बारहवें भाव में होने से विदेश से लाभ होता हुआ दिखाई दे रहा है। 14 जनवरी के बाद सूर्य आपके अष्टम में होंगे जिसके कारण स्वास्थ्य से जुडी कोई समस्या हो सकती है। इस समय भाई बहनों के साथ कोई विवाद संभव है। शुक्र अष्टम में शनि के साथ विराजमान होकर स्त्री सुख में कमी कर सकते हैं। 17 जनवरी को शनि के कुंभ राशि में प्रवेश करते ही आपके भाग्य में वृद्धि होगी। 

फरवरी

फरवरी के माह में शुक्र शनि और गुरु की कृपा से आपको पारिवारिक तनाव से मुक्ति मिलेगी। इस समय आपके रुके हुए सभी कार्य पूर्ण होंगें। सूर्य देव जब कुम्भ में शनि के साथ प्रवेश करेंगे तो इससे आपको शानदार परिणाम दिखाई देंगे। इस माह आपको अपने पिता का सहयोग मिलने वाला है। पिता के साथ मतभेद खत्म होंगे और नए काम की शुरुआत हो सकती है। 15 फरवरी से 12 मार्च तक उच्च का शुक्र आपको कार्य स्थल पर सहयोग देगा। इस समय किसी महिला सहकर्मी के साथ प्रेम संबंध बन सकते है। जो विवाहित है वो अपनी पत्नी के माध्यम से कोई बड़ा प्रोजेक्ट हासिल कर सकते है। इस समय शनि देव की कृपा से आध्यात्म में नई ऊंचाई छूने का समय आपको मिलेगा। लोहा,मशीन से जुड़े जातकों को विदेश भ्रमण का मौका मिल सकता है। 

ये भी पढ़ें:-

मार्च

16 मार्च तक राशि स्वामी बुध का गोचर भी शनि के साथ भाग्य स्थान में होने जा रहा है जिसके कारण मीडिया, लेखन, जनसंचार से जुड़े जातकों को न सिर्फ लाभ होगा बल्कि आपके द्वारा की गई यात्राएं आपको बेहद लाभ देने वाली होगी। 13 मार्च को मंगलदेव का गोचर मिथुन राशि में होगा वही 15 मार्च को सूर्य देव मीन राशि में विराजमान होकर गुरु से युति (मिलन) करेंगे। मार्च में ये गोचर आपके जीवन में कई बदलाव लेकर आएंगे। इस समय सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे जातक सफल होंगे और उन्हें नई जोइनिंग भी मिल सकती है। कार्यस्थल पर आपके उच्च अधिकारी आपके कार्य से बेहद प्रसन्न होंगे और आपको सम्मानित भी किया जा सकता है वहीं लग्न में मंगल का गोचर थोड़ा सा कष्टकारी हो सकता है। इस समय अहंकार और घमंड की वृद्धि देखी जा सकती है। भाइयों के साथ तनाव और क्रोध की अधिकता से आपका मन खिन्न रहने वाला है। भूमि और भवन से जुड़े किसी सौदे में आपको नुकसान हो सकता है। 

अप्रैल

अप्रैल के मध्य में उच्च के सूर्य के गोचर से पैतृक संपत्ति का लाभ होगा। सूर्य की राहु के साथ यह युति लाभ स्थान में होने जा रही है इसलिए जुआ, सट्टा और लॉटरी के माध्यम से धन प्राप्ति के संकेत है। 14 अप्रैल से सूर्य भी उच्च राशि मेष में ही होंगे यानी की मेष राशि में सूर्य गुरु राहु की युति 22 अप्रैल से लेकर 15 मई तक रहेगी और आपके एकादश लाभ को प्रभावित करेगी। इस युति पर शनि की दृष्टि भी होगी जिसके कारण आय के एक से अधिक जरिए आपके सामने तैयार होंगे। इस महीने आपको किसी बड़े निवेश में भी सफलता हासिल हो सकती है।

मई-जून

मई-जून के महीने में व्यापार से जुड़ी यात्रा होगी। लग्न में शुक्र का गोचर और सूर्य मंगल धन भाव को प्रभावित करेंगे। गुरु भी आपके पराक्रम भाव को प्रभावित कर रहे हैं इसके प्रभाव से ना सिर्फ आपके परिवार में सुख शांति होगी बल्कि आपके काम में भी आपको तरक्की मिलने की उम्मीद है। इस महीने बुध का सहयोग से छात्रों को विदेश जाकर अपने हुनर को निखारने का मौक़ा मिलने वाला है। 10 मई से 1 जुलाई तक मंगल आपके धन भाव में नीच राशि में विराजमान होंगे। मंगल के इस गोचर काल में आपको धन से जुडी थोड़ी समस्या आ सकती है। वाणी की कड़वाहट किसी बनते काम को भी बिगाड़ सकती है। इस समय अवधि में मंगल राहु से चौथा होने के कारण व्यापार में हानि के संकेत दिखाई पड़ रहे है। 

जुलाई-अगस्त

राशि स्वामी बुध 8 जुलाई से 25 जुलाई तक धन स्थान में विराजमान होकर आपके आर्थिक रूप से सक्षम बनाने का काम करने वाले है। मिथुन राशि के जातकों के लिए जुलाई और अगस्त माह में सूर्य का गोचर कई खुशियां लेकर आने वाला है। इस समय गुरु के दृष्टि प्रभाव के कारण काम के सिलसिले में की गई यात्राओं से लाभ होने की उम्मीद होगी। सरकारी नौकरी कर रहे जातकों को प्रमोशन मिल सकता है। अगस्त के माह में शुक्र आपके धन भाव को पुष्ट करने का काम करेंगे। इस समय आपको अपनी किसी महिला मित्र की मदद से बड़े प्रोजेक्ट की जिम्मेदारी दी जा सकती है। इस समय आप अपने घर परिवार की सुख सुविधा के लिए धन खर्च करने वाले होंगे। आप पत्नी के साथ कहीं बाहर घूमने भी जा सकते है। 

01 जुलाई से लेकर 18 अगस्त तक मंगल का सिंह राशि में गोचर पराक्रम को बढ़ाने वाला रहने वाला है। इस समय रेस्टोरेंट,भवन निर्माण,सेना,पुलिस,इंजीनियरिंग से जुड़े लोगों के साहस में वृद्धि होगी और उन्हें समाज में सम्मान प्राप्त होगा। मंगल की दशम पर दृष्टि पड़ने से आपको अपने पिता के कार्यो में मदद करने के लिए प्रेरित करेगी। देव गुरु बृहस्पति की कृपा से इस माह आपको अपने कार्यों में सहयोग मिलता हुआ दिखाई पड़ रहा है। शिक्षक वर्ग के लिए गुरु का यह गोचर लाभदायक सिद्ध होगा। 

सितंबर-अक्टूबर 

अक्टूबर के माह में आपके जीवन में राहु केतु का राशि परिवर्तन एक बड़ा बदलाव लेकर के आएगा। राहु 30 अक्टूबर को मीन में और केतु भी तुला से निकलकर कन्या राशि में प्रवेश कर जाएंगे। इस संचरण से आप गुरु चांडाल योग से मुक्त हो जाएंगे और अब गुरु अपने शुभ फल में वृद्धि कर देंगे। इस समय आपके घर में किसी नन्हे बच्चे की किलकारी गूंज सकती है। राहु का गोचर अब दशम भाव में और केतु का गोचर आपके चौथे भाव में होने जा रहा है। नवम्बर के माह में मंगल और सूर्य भी वृश्चिक राशि में होंगे। इस समय इन दोनों का राहु से नवपंचम योग बनने जा रहा है। इसके प्रभाव से राजनीति से जुड़े जातकों को इस माह जबरदस्त सफलता मिलने के योग बन जायेंगे। इसके अलावा अगर काफी समय से आप अपना मकान लेने की सोच रहे थे तो वो भी सम्भव होगा। इस समय शनि की दशम दृष्टि भी मंगल सूर्य पर होने से आपको गुप्त रूप से मदद मिलने की उम्मीद है। धार्मिक यात्रा के साथ ही आपका आध्यात्मिक पक्ष भी इस समय मजबूत रहने वाला है।

नवंबर- दिसंबर

साल के अंत में बुध और सूर्य के प्रभाव से आपके साहस और बल में वृद्धि होगी। पंचम में शुक्र तुला राशि में गोचर कर आपके लिए राजयोग का निर्माण करने वाले है, साल के अंत में आपका वैवाहिक जीवन खुशियों से खिल उठेगा। इस समय महिला वर्ग गर्भधारण कर सकती है। पत्नी के साथ बाहर घूमने जा सकते है। पत्नी का सहयोग और जीवन में किसी नए प्रेमी का आगमन साल के अंत में हो सकता है। इस साल शनि गुरु और राहु की कृपा से आपको अब तक की गई मेहनत का फल मिलने वाला है इसलिए अपने लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करें।

Leave a comment