जानें क्यों जरूरी है ? कुंडली मिलान - Know why it is important? horoscope matching

जानें क्यों जरूरी है ? कुंडली मिलान - Know why it is important? horoscope matching
Last Updated: 16 मार्च 2024

जानें क्यों जरूरी है ? कुंडली मिलान - Know why it is important? horoscope matching

हिंदू विवाह परंपरा के अनुसार, सफल वैवाहिक जीवन के लिए कुंडली मिलान महत्वपूर्ण माना जाता है। कुंडली मिलान के जरिए व्यक्ति के भविष्य, भूत और वर्तमान के बारे में जाना जा सकता है। विवाह करने का निर्णय लेते समय कुंडली मिलान एक महत्वपूर्ण विचार है। इसे "गुण मिलान" या "कुंडली मिलान" के रूप में भी जाना जाता है, यह विवाह की ओर पहला कदम है, जहां माता-पिता अनुकूलता सुनिश्चित करने के लिए दूल्हा और दुल्हन की कुंडली का मिलान करते हैं। गुण मिलान हजारों वर्षों से भारतीय संस्कृति का हिस्सा रहा है और आज भी महत्वपूर्ण है, खासकर हमारे हिंदू समाज में। आध्यात्मिक शास्त्रों के अनुसार, कुंडली मिलान एक आनंदमय वैवाहिक जीवन की ओर मार्गदर्शन करता है।

ग्रहों की स्थिति और गुणों की अवधि के आधार पर, ज्योतिषी कुंडली मिलान के लिए मार्गदर्शन प्रदान करते हैं। यह न केवल जोड़े के बीच अनुकूलता को इंगित करता है बल्कि उनकी शारीरिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक अनुकूलता में अंतर्दृष्टि भी प्रदान करता है, इस प्रकार एक स्थिर और लंबे समय तक चलने वाले रिश्ते को सुनिश्चित करता है। कुंडली मिलान आपको रिश्ते की स्थिरता और दीर्घायु के बारे में गहरी जानकारी प्राप्त करने की अनुमति देता है।

 

गुण मिलान या कुंडली मिलान का उद्देश्य और महत्व

ये भी पढ़ें:-

कुंडली मिलान विवाह प्रस्ताव को आगे बढ़ाने की दिशा में पहला कदम है। इसमें विवाह के बंधन में बंधने से पहले ग्रहों के प्रभाव के आधार पर भावी वर-वधू के स्वभाव में कितना अंतर है, इसका आकलन किया जाता है। इससे यह अनुमान लगाने में मदद मिलती है कि उनका भावी वैवाहिक जीवन कैसा होगा और वे एक-दूसरे को कितनी अच्छी तरह समझेंगे। कुंडली मिलान से भविष्य में होने वाली उन घटनाओं का अनुमान लगाने में भी मदद मिलती है जो विवाह पर सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव डाल सकती हैं।

भारतीय संस्कृति में शादी से पहले कुंडली मिलान का बहुत महत्व है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार, यह निर्धारित करता है कि शादी के बाद जोड़े का बंधन मजबूत रहेगा या नहीं। कुंडली मिलान में गुण मिलान से जोड़े को प्रभावित करने वाले चल रहे ग्रह चरणों का मूल्यांकन करने में मदद मिलती है, जो उनके विवाह के बाद के जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकता है। यह या तो उनके बंधन को मजबूत कर सकता है या उनके रिश्ते में टकराव और मुद्दों को जन्म दे सकता है।

 

कुंडली मिलान में गुण मिलान को समझना

कुंडली मिलान का प्राथमिक कार्य गुणों का मिलान करना है। गुण मिलान विवाह में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है क्योंकि यह किसी व्यक्ति की कुंडली में आठ अलग-अलग गुणों या "अष्टकूट" का आकलन करता है। इन गुणों में वर्ण (जाति), वश्य (प्रभुत्व), तारा (तारा), योनि (यौन अनुकूलता), ग्रह मैत्री (ग्रह मित्रता), गण (स्वभाव), भकूट (आध्यात्मिक अनुकूलता), और नाड़ी (स्वास्थ्य) शामिल हैं।

गुण मिलान का महत्व

ज्योतिष शास्त्र में माना जाता है कि 18 से कम गुण मिलान से विवाह असफल हो सकता है। यहां मिलान किए गए गुणों की संख्या के आधार पर विवरण दिया गया है:

- 18 अंक से कम: विवाह में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है।

- 18-24 अंक: विवाह सफल हो सकता है लेकिन कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

- 24-32 अंक: सफल वैवाहिक जीवन की संभावना अधिक है।

- 32-36 अंक: ऐसी शादियां न्यूनतम समस्याओं के साथ बेहद शुभ मानी जाती हैं।

 

कुंडली मिलान में मंगल दोष

गुण मिलान के अलावा कुंडली में दोषों पर भी विचार करना आवश्यक है। मंगल दोष जैसे दोषों को नजरअंदाज करने से वैवाहिक जीवन में कलह हो सकती है। विवाह के साथ आगे बढ़ने से पहले कुंडली का अच्छी तरह से मिलान करना और किसी भी दोष का समाधान करना महत्वपूर्ण है।

 

कुंडली मिलान में विवाह से परे

कुंडली मिलान केवल विवाह तक ही सीमित नहीं है; इसका उपयोग व्यावसायिक साझेदारों या यहां तक कि स्थानांतरण के लिए किसी विशेष स्थान के साथ अनुकूलता का आकलन करने के लिए भी किया जा सकता है। यह ज्योतिषीय मापदंडों के आधार पर दो व्यक्तियों या एक व्यक्ति और एक स्थान के बीच सामंजस्य का मूल्यांकन करता है।

 

कुंडली मिलान कैसे काम करता है?

कुंडली मिलान का संचालन जानकार ज्योतिषियों द्वारा किया जाता है जो अनुकूलता निर्धारित करने और दोषों की पहचान करने के लिए दोनों कुंडलियों में ग्रहों की स्थिति का विश्लेषण करते हैं। इसमें व्यक्तियों की प्रकृति, प्राथमिकताओं और समग्र अनुकूलता का विस्तृत मूल्यांकन शामिल है।

 

कुंडली मिलान का महत्व

वैदिक ज्योतिष इस बात पर जोर देता है कि ग्रहों की स्थिति मानव जीवन को विभिन्न स्तरों पर प्रभावित करती है, जिससे सामंजस्यपूर्ण वैवाहिक जीवन सुनिश्चित करने के लिए कुंडली मिलान महत्वपूर्ण हो जाता है। उचित कुंडली मिलान से वैवाहिक जीवन में सुख, शांति और समृद्धि बढ़ती है।

 

कुंडली मिलान में मुख्य पहलू

बिंदुओं के बीच विभाजित आठ पैरामीटर या श्रेणियां इस प्रकार हैं:

 

- वर्ण: व्यक्तियों को चार वर्गों में वर्गीकृत करता है - ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र।

- वश्य: प्रभुत्व या नियंत्रण को दर्शाता है, जिसे पांच प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है - मानव, वनचर, चतुष्पाद, जलचर और कीट।

- तारा: जन्म नक्षत्र या नक्षत्र के आधार पर अनुकूलता का मूल्यांकन करता है।

- योनि: भागीदारों के बीच यौन अनुकूलता का आकलन करता है।

- ग्रह मैत्री: ग्रह मैत्री और अनुकूलता का संकेत देता है।

- गण: व्यक्तियों को तीन समूहों में वर्गीकृत करता है - देव, मनुष्य और राक्षस।

- भकूट: आध्यात्मिक अनुकूलता का मूल्यांकन करता है।

- नाड़ी: तीन प्रकारों - वात, पित्त और कफ के आधार पर स्वास्थ्य अनुकूलता का आकलन करती है।

Leave a comment

ट्रेंडिंग