महात्मा विदुर कौन थे ? विदुर नीति -भाग-1

महात्मा विदुर कौन थे ? विदुर नीति -भाग-1
Last Updated: Wed, 20 Jul 2022

महात्मा विदुर हस्तिनापुर के प्रधान मंत्री थे और शाही परिवार के सदस्य थे। हालाँकि, उनकी माँ शाही राजकुमारी होने के बजाय शाही घराने में एक नौकर थीं। इस कारण महात्मा विदुर राज्य या राजपरिवार के मामलों में कोई निर्णायक भूमिका नहीं निभा सके और न ही उन्हें भीष्म पितामह से युद्ध कला सीखने का अवसर मिला। महात्मा विदुर ऋषि वेदव्यास के पुत्र और दासी थे। उन्होंने पांडवों को सलाह दी और कई मौकों पर उन्हें दुर्योधन द्वारा रची गई योजनाओं से बचाया। विदुर ने कौरवों के दरबार में द्रौपदी के अपमान का भी विरोध किया था। भगवान श्रीकृष्ण के अनुसार विदुर को यमराज (न्याय के देवता) का अवतार माना जाता था। चाणक्य के समान ही विदुर के सिद्धांतों की भी बहुत प्रशंसा की जाती थी। विदुर की बुद्धिमत्ता का संबंध महाभारत युद्ध से पहले महात्मा विदुर और हस्तिनापुर के राजा धृतराष्ट्र के बीच हुए संवाद से है। आइए इस लेख में महात्मा विदुर की नीति - भाग 1 का महत्व जानें, जिससे हम जीवन को बेहतर बनाने के लिए सबक सीख सकते हैं।

 

1. पृथ्वी किसे निगलती है?

पृथ्वी दो प्रकार के प्राणियों को निगलती है:

- जैसे सांप अपने बिल में रहने वाले चूहों को निगल जाता है, उसी प्रकार जो राजा अपने शत्रुओं का सामना नहीं करते, उन्हें तथा ब्राह्मणों को, जो परदेश में नहीं घूमते, उन्हें पृथ्वी निगल जाती है।

ये भी पढ़ें:-

 

2. वे दो प्रकार के लोग कौन हैं जो दूसरों पर भरोसा करते हैं और कार्य करते हैं?

दो प्रकार के लोग दूसरों के विश्वास के आधार पर कार्य करते हैं:

1. मनचाहे पुरुष की इच्छा पूरी करने वाली महिलाएं

2. और जो लोग उन की पूजा करते हैं जिन्हें दूसरे पूजते हैं।

 

3. कौन से कार्य विशेष महिमा लाते हैं?

जो व्यक्ति ये दो कार्य करता है, उसे इस संसार में विशेष यश प्राप्त होता है: कठोर बोलने से बचना और दुष्ट लोगों का सम्मान न करना।

 

4. किसे अपने कार्यों के कारण महिमा नहीं मिलती?

केवल ये दो लोग अपने विपरीत कार्यों के कारण महिमा प्राप्त नहीं कर पाते हैं:

1. आलसी गृहस्थ अथवा निष्क्रिय व्यक्ति।

2. और तपस्वी संसार में लग गया।

 

5. दो नुकीले काँटे!

दो नुकीले कांटे हैं जो शरीर को समान रूप से छेदते हैं:

1. गरीब होने पर भी मूल्यवान वस्तुओं की इच्छा करना,

2. और शक्तिहीन होते हुए भी क्रोध करना।

6. किसे डुबाना चाहिए?

इन दोनों प्रकार के लोगों के गले में कोई बड़ा और मजबूत पत्थर बांधकर पानी में डुबा देना चाहिए:

1. जो लोग धनवान होते हुए भी दान नहीं देते।

2. और जो लोग गरीब होते हुए भी कष्ट सहन नहीं कर पाते।

 

7. स्वर्ग से भी कौन श्रेष्ठ है?

दो प्रकार के लोग होते हैं जो स्वर्ग से भी आगे निकल जाते हैं:

1. शक्तिशाली व्यक्ति जो क्षमा कर देता है,

2. और जो गरीब व्यक्ति दान करता है।

 

8. धन के दो दुरुपयोग

वैध तरीकों से अर्जित धन के केवल दो दुरुपयोग हैं:

1. अयोग्य को देना,

2. और पात्र को न देना।

 

9. उच्च गति किसे प्राप्त होती है?

ये दो प्रकार के लोग सौर मंडल में अंतर करते हैं और उच्च स्थिति प्राप्त करते हैं:

1. जो त्यागी योगाभ्यास करता है,

2. और जो योद्धा युद्ध में शत्रु का वीरतापूर्वक सामना करता है।

Leave a comment

ट्रेंडिंग