फिल्म जगत की मशहूर प्लेबैक सिंगर ‘श्रीमति आशा भोसले’ जी का जीवन काल कैसा था ?जाने विस्तार से |

फिल्म जगत की मशहूर प्लेबैक सिंगर ‘श्रीमति आशा भोसले’ जी का जीवन काल कैसा था ?जाने विस्तार से |
Last Updated: Sat, 18 Feb 2023

फिल्म जगत की मशहूर प्लेबैक सिंगर ‘श्रीमति आशा भोसले’ जी का जीवन काल कैसा था ?जाने विस्तार से | 

एक ऐसी महिला जो न सिर्फ देश में बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी सबसे ज्यादा पहचानी जाने वाली भारतीय महिलाओं में से एक है। उनका छह दशकों से अधिक का करियर रहा है, जिसके दौरान उन्होंने ग़ज़ल, भजन, पॉप, शास्त्रीय और कुछ लोक गीतों सहित विभिन्न भाषाओं में हजारों गाने गाए हैं। यह महिला कोई और नहीं बल्कि हमारी फिल्म इंडस्ट्री की मशहूर प्लेबैक सिंगर सुश्री आशा भोसले हैं। उन्होंने अपने गानों से लाखों लोगों का दिल जीता है। इसके अलावा, आशाजी ने कई निजी एल्बम और कई भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भी भाग लिया है। आशाजी पार्श्व गायिका लता मंगेशकर की बहन हैं।

 

आशा भोंसले का जन्म

आशा भोसले का जन्म 8 सितंबर 1933 को सांगली, महाराष्ट्र में हुआ था। उनके पिता दीनानाथ मंगेशकर एक प्रसिद्ध गायक और अभिनेता थे। उनके पिता ने उन्हें बहुत कम उम्र में ही संगीत सिखाना शुरू कर दिया था। जब आशा 9 साल की थीं, तब उनके पिता का निधन हो गया। उनके पिता की मृत्यु के बाद उनका पूरा परिवार मुंबई चला गया। उनकी एक बड़ी बहन लता मंगेशकर हैं, जिन्हें हिंदी सिनेमा की स्वर कोकिला कहा जाता है। अपने पिता की मृत्यु के बाद, परिवार का बोझ दोनों बहनों के कंधों पर आ गया, जिसके कारण लताजी ने फिल्मों में गाना और अभिनय करना शुरू कर दिया। आशाजी और उनकी सभी बहनों ने संगीत की शिक्षा अपने पिता से प्राप्त की, जो स्वयं एक महान संगीतकार थे। इस शिक्षा के साथ, उन्होंने अपने शुरुआती जीवन से बाहर निकलने और एक आधिकारिक क्षमता में अपना करियर बनाने का फैसला किया।

ये भी पढ़ें:-

 

संगीत में आशा भोंसले का करियर

आशा भोंसले ने अपने गायन करियर की शुरुआत 1948 में फिल्म "चुनरिया" से की थी। इसमें उन्होंने जो गाना गाया था वो था "सावन आया।" तब से, आशा की आवाज़ को उसके अनोखे आकर्षण के लिए देखा जाने लगा।

शुरुआत में आशाजी ने कम बजट की हिंदी फिल्मों के लिए गाना गाकर अपने गायन करियर को आगे बढ़ाया। उनके अधिकांश गाने मुख्य रूप से वैम्प्स, कैबरे नंबर या सी-ग्रेड फिल्मों के लिए थे। हालाँकि, इन गानों को टॉप पर लाने के लिए आशाजी ने काफी मेहनत की। उसके बाद, आशाजी ने अपनी सुरीली और मधुर आवाज से लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया और उनका करियर "परिणीता" (1953), "बूट पॉलिश" (1954), "सी.आई.डी" (1956) जैसी फिल्मों के हिट गानों से आगे बढ़ने लगा। "नया दौर" (1958)।

आशा जी ने "मांग के साथ तुम्हारा" और "उड़े जब जब जुल्फें तेरी" जैसे गीतों के माध्यम से संगीत उद्योग में अच्छी प्रतिष्ठा स्थापित करना शुरू कर दिया। इसके बाद, आशा जी ने "दीवाना हुआ बादल," "आओ हुज़ूर तुमको," और "ये दिल मेरा" जैसे एक के बाद एक हिट गानों से लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। फिर 1974 में उन्होंने फिल्म 'प्राण जाए पर वचन ना जाए' के लिए 'चैन से' गाना गाकर रिकॉर्ड बनाया।

इन गानों की जबरदस्त सफलता के बाद, उन पर एस.डी. जैसे अन्य संगीत निर्देशकों की नज़र पड़ी। बर्मन. आशाजी और एस.डी. बर्मन ने "काला पानी," "काला बाजार," "इंसान जाग उठा," "लाजवंती," "सुजाता," और "तीन देवियां" जैसी फिल्मों के लिए कई हिट साउंडट्रैक बनाए। इन गानों में मोहम्मद रफ़ी और किशोर कुमार के साथ उनकी जोड़ी विशेष रूप से प्रसिद्ध थी।

1960 के दशक के मध्य में, आशा ने आर.डी. बर्मन के साथ काम किया और अपने करियर के शिखर पर पहुँच गईं। 1966 में रिलीज़ हुई फिल्म "तीसरी मंजिल" काफी लोकप्रिय हुई और आशाजी और आर.डी. बर्मन द्वारा गाए गए युगल गीतों ने उनकी साझेदारी स्थापित की। आशा जी अपने करियर के शिखर पर पहुंच चुकी थीं और फिर वह मुख्यधारा बॉलीवुड में मशहूर डांसर हेलेन की आवाज बन गईं।

आशा जी द्वारा हेलेन के लिए गाए कुछ हिट गानों में फिल्म "तीसरी मंजिल" (1966) का "ओ हसीना जुल्फों वाली", फिल्म "कारवां" (1971) का "पिया तू अब तो आजा", "ये मेरा दिल" शामिल हैं। फिल्म "डॉन" (1978) से, और फिल्म "जवानी दीवानी" (1972) से लोकप्रिय गाना "जाने जान"। इन गानों में उन्होंने कम सुर से लेकर ऊंचे सुर तक समान सहजता से गाया।

फिल्म "हरे रामा हरे कृष्णा" का गाना "दम मारो दम" भी उनकी प्रतिभा का एक नया आयाम था। इसके अलावा आशा जी ने अपनी जादुई आवाज से कई हिट गाने देकर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

आशा जी ने देशभक्ति से लेकर ग़ज़ल और रोमांटिक गीतों तक अपने विविध गीतों से आलोचकों को गलत साबित कर दिया। उन्होंने दिखाया कि वह अन्य शैलियों में भी गा सकती हैं।

एक बार महान संगीतकार खय्याम ने उनसे सामान्य से दो स्वर धीमी गति से गाने के लिए कहा। उन्होंने उस पर भी ध्यान दिया और अपनी गायन शैली को मजबूत किया और नतीजा ये हुआ कि उनके गाने आज भी बड़े गर्व और सम्मान के साथ गाए जाते हैं.

1990 के दशक में, आशा जी ने जोशीले गानों के साथ प्रयोग किया। उन्होंने ए.आर. जैसे छोटे संगीत निर्देशकों के साथ गाना गाया। रहमान, अनु मलिक और संदीप चौटा ने "तन्हा तन्हा," "यारा," "कमबख्त इश्क," और "चोरी पे चोरी" जैसे गानों में अभिनय किया। हालाँकि, समय के साथ, उनकी आवाज़ में उतनी ताकत नहीं रही, जितनी तीस साल पहले थी।

उनके करियर में एक समय ऐसा भी आया था जब वह मुख्यधारा की बॉलीवुड में पार्श्व गायिका के रूप में अपनी बड़ी बहन लता मंगेशकर के खिलाफ खड़ी थीं। आशा जी पूरी तरह से अपनी अलग पहचान बनाने में जुट गईं और इसमें सफल भी हुईं।

शास्त्रीय, पश्चिमी-प्रभावित, पॉप, कैबरे और ग़ज़ल शैलियों के माध्यम से, वह सिर्फ गीतों की तुलना में अधिक बहुमुखी प्रदर्शन के साथ उभरीं। उन्होंने अपनी बहन लता मंगेशकर की छत्रछाया को अस्वीकार कर दिया और संगीत के साथ प्रयोग करना जारी रखा।

आशा भोसले के कुछ प्रसिद्ध गाने

                  गाने                         फिल्म          साल

इन आँखों की मस्ती             उमराव जाना        सन 1981 

चुरा लिया है तुमने जो दिल को    यादों की बारात      सन 1973  

दम मारो दम                     हरे राम हरे कृष्ण    सन 1971 

दो लफ्जों की है                     द ग्रेट गैम्बलर        सन 1979 

मांग के साथ तुम्हारा             नाया दौर        सन 1957

हाल कैसा हैं जनाब का           चलती का नाम गाडी  सन 1958 

एक परदेसी मेरा दिल             फागुन                सन 1958

      ले गया

ये रेशमी जुल्फों का अँधेर        मेरे सनम               सन 1964

आओ ना गले लग जाओ ना     मेरा जीवन साथी      सन 1972

खातौबा                         अली बाबा और      सन 1980

                                         चलीस चोर

दिल चीज क्या हैं                 उमराव जान     सन 1981

दिल ले गई                 दिल तो पागल हैं    सन 1997

अभी न जाओ छोड़ कर       हम दोनों            सन 1962

मेरा नाम हैं शबनम       कटी पतंग           सन 1971

जाइये आप कहा जायेंगे       मेरे सनम          सन 1965

रात के हमसफ़र              एन इवनिंग इन पेरिस-सन 1967

रंगीला रे                      रंगीला                 सन 1995

छोड़ दो आँचल             रंगीला                 सन 1957

दुनिया में                    अपना देश         सन 1972

आगे भी जाने न तू    वक़्त                 सन 1965

इशारों इशारों मैं दिल    कश्मीर की कली      सन 1964

जब छाए मेरा जादू      लूटमार                सन 1980 

पिया तू अब तो आजा      कारवां                सन 1971 

आइये मेहरबान            हावड़ा ब्रिज             सन 1958 

ये मेरा दिल                     डॉन                      सन 1978 

तन्हा तन्हा यहाँ पे           रंगीला                 सन 1995 

पर्दे में रहने दो             शिकार                सन 1968 

दीवाना हुआ बादल    कश्मीर की कली     सन 1964 

आजा आजा              तीसरी मंजिल       सन 1966 

राधा कैसे न जले              लगान               सन 2001 

ज़रा सा झूम लू मैं             दिलवाले दुल्हनिया  सन 1995 

                                        ले जायेंगे

तू तू है वही                      ये वादा रहा        सन 1982 

रंग दे                              तक्षक                   सन 1999 

उड़े जब जब जुल्फें तेरी     नया दौर         सन 1957 

इसके अलावा आशा भोंसले जी ने और फिल्मों में एवं बहुत से एल्बम्स में भी गाने गायें हैं जोकि काफी लोकप्रिय हैं। 

आशा भोंसले ने कई अवार्ड जीते है

1987- नाइटीनेंगल ऑफ एशिया अवार्ड (इंडो पाक एशोशिएशन यु.के.)

1989- लता मंगेस्कर अवार्ड (मध्य प्रदेश सरकार) 

1997- स्क्रीन वीडियोकॉन अवार्ड (जानम समझा करो- एल्बम के लिए)

1998- दयावती मोदी अवार्ड

1999- लता मंगेशकर अवार्ड (महाराष्ट्र सरकार)

2000- सिंगर ऑफ द मिलेनियम (दुबई)

2000- जी गोल्ड बॉलीवुड अवार्ड (मुझे रंग दे- फिल्म तक्षक के लिए)

2001- एम.टी.वी. अवार्ड (कमबख्त इशक – के लिए)

2002- बी.बी.सी. लाइफटाइम एचीवमेंट अवार्ड (यू॰के॰ प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर के द्वारा प्रदत)

2004- लाईविग लीजेंड अवार्ड (फेडरेशन ऑफ इंडियन चेम्बर ऑग कामर्स एण्ड इंडस्ट्रीज के द्वारा)

2005- एम.टी.वी. ईमीज, बेस्ट फीमेल पॉप ऐक्ट (आज जाने की जिद न करो)

2005- मोस्ट स्टाइलिश पीपुल इन म्यूजिक

 

नोट: ऊपर दी गई सारी जानकारियां पब्लिक्ली उपलब्ध जानकारियों और सामाजिक मान्यताओं पर आधारित है, subkuz.com इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता.किसी भी  नुस्खे  के प्रयोग से पहले subkuz.com विशेषज्ञ से परामर्श लेने की सलाह देता हैI

Leave a comment