कुंडली में सूर्य को मजबूत बनाने के लिए इस महामंत्र को जपे, जपते ही ​बरसने लगेगी कृपा और चमक उठेगा आपका भाग्य

कुंडली में सूर्य को मजबूत बनाने के लिए इस महामंत्र को जपे, जपते ही ​बरसने लगेगी कृपा और चमक उठेगा आपका भाग्य
Last Updated: Thu, 19 Jan 2023

कुंडली में सूर्य को मजबूत बनाने के लिए इस महामंत्र को जपे, जपते ही ​बरसने लगेगी कृपा और चमक उठेगा आपका भाग्य   Chant this great mantra to make the sun b in the horoscope, as soon as you chant it blessings will start showering and your fortune will shine

 

पुनर्प्रकाशित सामग्री:

 

**सूर्य देव: नौ ग्रहों के मुखिया**

ये भी पढ़ें:-

पृथ्वी पर जीवन का आधार माने जाने वाले सूर्य देव हमारे करियर को बढ़ाने और समाज में सम्मान अर्जित करने के लिए महत्वपूर्ण हैं। सूर्यदेव की कृपा से हमें न केवल जीवन मिलता है बल्कि उसे कायम रखने के साधन भी मिलते हैं। ज्योतिष शास्त्र में सूर्यदेव को सभी ग्रहों का राजा माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि यदि किसी जातक की कुंडली में सूर्यदेव शुभ फल देते हैं तो उन्हें समाज में सफलता और सम्मान के साथ-साथ पिता का आशीर्वाद भी निरंतर मिलता रहता है। हालाँकि, जब सूर्य कमजोर होता है, तो यह व्यक्ति के आत्मविश्वास को कम कर देता है और आंखों से संबंधित विभिन्न परेशानियों को जन्म देता है। ऐसे व्यक्तियों को अपने पेशेवर प्रयासों में उच्च अधिकारियों से समर्थन प्राप्त करने के लिए संघर्ष करना पड़ सकता है और उन्हें अपने पिता के साथ तनावपूर्ण संबंधों का भी अनुभव हो सकता है। यदि आपकी कुंडली में सूर्यदेव के अनुकूल परिणामों का अभाव है, तो दिए गए मंत्रों का जाप और सुझाए गए अनुष्ठानों को करने से, जैसे कि सुबह स्नान के बाद विशिष्ट मंत्रों का जाप करते हुए सूर्य देव को प्रार्थना करने से उनका आशीर्वाद प्राप्त करने में मदद मिल सकती है।

 

**इस स्रोत का दैनिक पाठ:**

प्रार्थना को परमात्मा से जुड़ने का सबसे आसान माध्यम माना जाता है। प्रार्थना के माध्यम से हम अपने सपनों को पूरा करने की शक्ति प्राप्त करते हैं। भगवान सूर्य की कृपा पाने के लिए प्रतिदिन सूर्य पूजा करनी चाहिए और आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करना चाहिए। इसके अतिरिक्त, हरिवंश पुराण के अंश पढ़ने और हर रविवार सुबह सूर्य आरती का पाठ करने की सलाह दी जाती है।

 

**ये वस्तुएं दान करें:**

ग्रहों के दुष्प्रभाव से बचने के लिए विभिन्न वस्तुओं का दान करना सबसे आसान तरीका है। हर रविवार सुबह 8 बजे से पहले किसी जरूरतमंद को खाने की चीजें दान करनी चाहिए। गुड़, जौ, तांबा और लाल फूल जैसी चीजें दान की जा सकती हैं। हालाँकि, ये दान करने के बाद ही भोजन और पानी का सेवन करना आवश्यक है।

 

**सूर्य गायत्री मंत्र:**

"ओम आदित्याय विद्महे प्रभाकराय धीमहि तन्नो सूर्य प्रचोदयात्"

 

**सूर्य प्रार्थना मंत्र:**

"ग्रहणं आदिरादित्यो लोकलक्षण कारकः विषम स्थान संभूतं पीड़ं दहतु में रवि"

 

**इस मंत्र से करें सूर्य देव की पूजा:**

"नमो नमस्तेस्तु सदा विभावसोम, सर्वात्मने सप्ताहाय भवनवे। अनंतशक्ति मणिभूषणे, वदस्व भक्तिं मम मुक्तिव्ययम्।।"

**सूर्य का तंत्रोक्त मंत्र:**

"ओम ह्रां ह्रीं ह्रौं सः सूर्याय नमः"

 

**कुंडली में सूर्य संबंधी दोष दूर करने का मंत्र:**

"जपाकुसुम संकाशं काश्यपयं महाद्युतिम्, तमोरिम सर्वपापघ्नं प्राणतोस्मि दिवाकरम्।"

 

**सुबह की सूर्य पूजा के लिए चौपाई:**

"सूर्यदेव! मैं सुमिरौ तोहि। सुमिरत ज्ञान-बुद्धि दे मोहि। तुम आदित परमेश्वर स्वामी। अलख निरंजन अंतरजामि।। ज्योति-प्रताप तिहुं पुर राजाई। रूप मनोहर कुंडल भृजै। नील वर्ण छवि तुम असवारी। ज्ञान निधन धरम व्रतधारी। एक रूप रजत। तिहुं लोक। सुमिरत नाम मिटै सब सोका। नमस्कार करि जो नर ध्यावहिं। सुख-संपति नानाबिधि पावहिं। दोहा- ध्यान करत हि मिटत तम उर अति होत प्रकाश। जय अदित सर्वसिव देहु भक्ति सुखारस।।"

 

अगर आप भगवान सूर्य की कृपा पाना चाहते हैं तो इन श्लोकों के साथ सूर्याष्टकम और सूर्य अर्घ्य स्तोत्र का पाठ भी कर सकते हैं।

Leave a comment