सिलाई मशीन का आविष्कार कब और किसने किया ? कैसे किया, जानें हर एक बात Subkuz.Com पर रोचक जानकारियां

सिलाई मशीन का आविष्कार कब और किसने किया ? कैसे किया, जानें हर एक बात Subkuz.Com पर रोचक जानकारियां
Last Updated: Wed, 24 Jan 2024

सिलाई मशीन, जो वर्तमान समय में हर घर में उपलब्ध है, कपड़ों को विभिन्न डिज़ाइनों में सिलने के लिए एक अहम उपकरण है। इसका प्रयोग पहले के युग में हाथ से सिलाई करने के लिए होता था, जो एक प्राचीन कला थी। लोग हाथ से सिलाई करके विभिन्न प्रकार के कपड़े बनाते थे, और इस कला का इतिहास 20,000 साल पहले तक जाता है। उस समय, सिलाई में जानवरों की हड्डियों और सींगों का उपयोग सुइयों के रूप में किया जाता था। लकड़ी की सुइयां बनने के साथ हाथ से सिलाई का कार्य धीरे-धीरे विकसित हुआ, और सुइयों की बनावट में भी कई सुधार हुए। 

सिलाई मशीन का आविष्कार होने के बाद, जो आधुनिक काल में हुआ, सिलाई में विविधता और तेजी से बढ़ा दी गई। 19वीं शताब्दी में पेडल मशीनों का आविष्कार हुआ, जो फिर आधुनिक काल में कम्प्यूटरीकृत सिस्टम के साथ बनाए गए। आज, हम विभिन्न डिज़ाइन और कपड़े पहनते हैं, और इसका श्रेय हमारे वैज्ञानिकों को जाता है, जिन्होंने सिलाई मशीन में योगदान दिया। इसके योगदान से न केवल सिलाई में विविधता आई, बल्कि इससे कई लोगों को रोजगार मिला, खासकर महिलाओं को। 

इस प्रगति और सुधार के परिणामस्वरूप, सिलाई मशीन ने लोगों के जीवन में क्रांति ला दी है और रोजगार के क्षेत्र में नए द्वार खोले हैं। इसे विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण आविष्कार माना जाता है जिसने समाज को सुगमता और सुविधा प्रदान की है।

*. सिलाई मशीन क्या है? What is sewing machine?

ये भी पढ़ें:-

सिलाई मशीन एक यांत्रिक उपकरण है जिसे किसी कपड़े या अन्य चीज़ को धागे या तार से सिलने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इसका आविष्कार पहली औद्योगिक क्रांति के दौरान हुआ था, और इसने सुंदर कपड़े पहनने के लिए सिलाई को सरल बना दिया है। सिलाई मशीनों की सहायता से आज छोटे और बड़े बैग, चादरें, पतली या मोटी रजाईयाँ सिलाई जाती हैं, और इसमें सुंदर कढ़ाई की जाती है।

पहले के युग में, सिलाई मशीनें कपड़ा, चमड़ा, और अन्य सामग्रियों को सिलने के लिए अधिकतम प्रकारों में उपयोग करने के लिए बनाई गई थीं। आज के दौर में, विभिन्न प्रकार की सिलाई मशीनें बटन सिलाई, टिका बनाने, और अन्य उद्देश्यों के लिए बनती हैं। इन मशीनों को बिजली से चलाया जा सकता है, जो सुधारता और दक्षता में एक नई दिशा प्रदान करता है।

*. सिलाई मशीन का अविष्कार किसने किया ?Who invented the sewing machine?

सिलाई मशीन का अविष्कार कई वर्षों पहले हुआ था और इसे कई मैकेनिकों ने बनाने की कोशिश की थी, लेकिन सफलता सिर्फ कुछ की नसीब में थी। सिलाई मशीन के विकास में विशेष योगदान करने वाले कई व्यक्तियों में से पाँच प्रमुख वैज्ञानिक हैं - वाटर हंट, एलियास होवे, जोसेफ मेडास्पागर, बर्थलेमी थिमोनियर और एलन बी विल्सन। 

*. जोसेफ मदर्सपर्गर ने सिलाई मशीन का आविष्कार कब किया था? When did Joseph Mothersperger invent the sewing machine?

जोसेफ मदरस्पार्गर ने साल 1814 में सिलाई मशीन का आविष्कार किया था और उन्हें इस अद्भुत आविष्कार के लिए पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्होंने वर्ष 1841 में एक बुनाई मशीन भी विकसित की।

*. बार्थलेमी थिमोनियर ने सिलाई मशीन का आविष्कार कब किया था? When did Barthelemy Thimonier invent the sewing machine?

बार्थलेमी थिमोनियर ने वर्ष 1829 में सिलाई मशीन का आविष्कार किया और वर्ष 1830 में अपना पेटेंट जारी करने के लिए फ्रांसीसी सरकार को प्रस्तुत किया। उन्होंने बड़े पैमाने पर कपड़े बनाने वाली कंपनी खोली और कई लोगों के लिए रोजगार बन गए। हालांकि, सेना की वर्दी बनाने के काम के कारण, कुछ मजदूर वर्ग के लोगों ने उनपर गुस्सा किया और कंपनी में आग लगा दी।

*. वाल्टर हंट ने सिलाई मशीन का आविष्कार कब किया था? When did Walter Hunt invent the sewing machine?

वाल्टर हंट, जिन्होंने न्यूयॉर्क शहर में 29 जुलाई, 1796 को जन्म लिया, मैकेनिक के क्षेत्र में प्रसिद्ध थे। उन्होंने छोटे से लेकर बड़े उपकरणों का निर्माण किया, जो हमारी दिनचर्या को आसान बनाने का कार्य करते हैं, जैसे कि स्पिनर, चाकू, शार्पनर, और स्वीपिंग मशीन। उनका एक अनूठा आविष्कार फोल्कस्टिच सिलाई मशीन था, जो काफी पॉप्युलर हो गई।

*. एलियास होवे ने सिलाई मशीन का आविष्कार कब किया था?  When did Elias Howe invent the sewing machine?

एलियास होवे का जन्म 9 जुलाई, 1819 को मैसाचुसेट्स शहर में हुआ था। उन्होंने उसी शहर से एक कपड़ा कंपनी भी शुरू की। ऐलिस को छोटी उम्र से ही मशीन रिपेयरिंग और आविष्कार का बहुत शौक था, ठीक इसी तरह उन्होंने मशीन पर रिसर्च की। 1845 में, होवे ने अपनी पहली आविष्कार मशीन का पेटेंट कराया। इस मशीन को बनाने में कई वैज्ञानिक लगे हुए थे, लेकिन होवे इस स्वचालित मशीन के पहले निर्माता बने। सुई में छेद, लॉक चेन स्टिचिंग के लिए कपड़े के नीचे शटल बनाए जाते थे और ऑटोमेटिक फीड इस मशीन की विशेषता है –

इस मशीन को सबसे पहले ब्रिटेन नामक शहर में एलॉयज के भाई ने लगभग 250 पाउंड में बेचा था। होवे के इस योगदान के लिए उन्हें वर्ष 1846 में यूनाइटेड स्टेट्स पेटेंट से सम्मानित किया गया था।

*. एलन बी. विल्सन ने सिलाई मशीन का आविष्कार कब किया था?  Alan B. When did Wilson invent the sewing machine?

एलन बी. विल्सन ने वर्ष 1851 में रोटरी सिलाई मशीन का निर्माण किया, जिसमें उन्होंने रोटरी हुक की उपरोक्त संरचना तैयार की।

*. सिलाई मशीन के प्रकार  Sewing machine types

सिलाई मशीन तीन विभिन्न प्रकार की हो सकती हैं – मैकेनिकल सिलाई मशीन, इलेक्ट्रॉनिक सिलाई मशीन, और कम्प्यूटरीकृत सिलाई मशीन।

*. यांत्रिक सिलाई मशीन Mechanical sewing machine

मैकेनिकल सिलाई मशीन एक सरल और आसान मशीन है जिसकी लागत बहुत कम है, लेकिन इसमें सिलाई में ज्यादा समय लगता है। इसमें दो प्रकार की यांत्रिक सिलाई मशीनें होती हैं - हाथ से चलने वाली मशीन और पेडल सिलाई मशीन। हाथ से चलने वाली मशीन घर में उपयुक्त होती है, जिसमें मशीन के पहिये से जुड़ा एक हैंडल होता है जिसे घुमाने पर सिलाई होती है।

*. पेडल सिलाई मशीन Pedal sewing machine

इस मशीन में छर्रों की बेल्ट होती है और इसमें हाथ हिलाने की जरूरत नहीं होती है। इसमें नीचे की तरफ एक पेडल होता है जिसे आपको अपने पैर से हिलाना होता है, बेल्ट को घुमाकर सिलाई की जाती है। इस मशीन का उपयोग करते समय न तो हाथ की जरूरत होती है और न ही बिजली की। इसे 19वीं सदी तक बड़ी-बड़ी कंपनियों में चलाया जाता था, और आज भी आधुनिक समय में कई घरों में इसका उपयोग किया जाता है।

*. इलेक्ट्रॉनिक सिलाई मशीन Plectronic sewing machine

वर्ष 1970 में इलेक्ट्रॉनिक मशीनें बहुत लोकप्रिय हुईं। इन मशीनों में मोटर का उपयोग करके मशीनें नियंत्रित की जाती हैं। इन मशीनों में पेरों की जगह इलेक्ट्रॉनिक मोटर का इस्तेमाल किया जाता है, जो बिजली से चलता है। इसमें आधुनिक सुविधाएं हैं, जिसके कारण सिलाई की गति बहुत अधिक होती है और आप इसमें कई तरह के कपड़े सिल सकते हैं।

*. कम्पूटराइजड सिलाई मशीन Computerized sewing machine

20वीं सदी में इस मशीन का डिजाइन काफी अलग है। इसमें कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल होता है, जिसमें विभिन्न डिजाइन को कंप्यूटर में फीड किया जाता है, और इसे बाद में सॉफ्टवेयर के माध्यम से मशीन में स्टोर किया जाता है। इस मशीन का उपयोग करके आप विभिन्न प्रकार के एम्ब्रॉयडरी फैब्रिक, लेस, जेकक्वार्ड फैब्रिक तैयार कर सकते हैं।

*. सिलाई मशीन भारत में कब आयी When did sewing machine come in india

जिस प्रकार कृषि हमारे भारत का मुख्य व्यवसाय है, उसी प्रकार सिलाई भी हमारे देश का मुख्य व्यवसाय है। वैसे तो Silai machine का अविष्कार बहुत पहले ही हो गया था लेकिन भारत में सिलाई मशीन 19 वी सदी के लगभग आया था। हालांकि, भारत ने स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद इस उद्यम में विशेष ध्यान दिया और सिलाई मशीनों के निर्माण में बड़ी प्रगति की।

भारत में बनने वाली सिलाई मशीनों में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध विक्रेता उषा मशीन और मेरिट कंपनी की सिलाई मशीनें हैं। 1935 में कोलकाता में उषा मशीन का पहला कारखाना स्थापित हुआ था, जिसमें सबसे पहली उषा कंपनी की सिलाई मशीन बनी थी। वर्तमान में, भारत में सिलाई मशीनें इतनी विकसित हैं कि इसे विदेशों में भी नया बाजार मिला है। सभी सिलाई मशीनों के पार्ट्स भी भारत में ही निर्मित होते हैं और इस उद्यम ने अपने तकनीकी उन्नति और गुणवत्ता के लिए अच्छे प्रतिष्ठान का दर्जा प्राप्त किया है।

Leave a comment