अगर आप भी है मोच की समस्या से परेशान है तो घर बैठे पाएं समाधान | अनमोल घरेलु नुस्खे

अगर आप भी है मोच की समस्या से परेशान है तो घर बैठे पाएं  समाधान | अनमोल घरेलु नुस्खे
Last Updated: Mon, 09 Jan 2023

अगर आप भी है मोच की समस्या से परेशान तो घर बैठे पाएं  समाधान | Bone injury home relief ideas.

दोस्तों मोच की समस्या सभी लोगो ने कभी न कभी जरूर महसूस किया होगा। मोच आने पर व्यक्ति को अत्यधिक पीड़ा का सामना करना पड़ता है। हड्डियों में किसी तरह के क्षतिग्रस्त होने से मोच की समस्या उत्पन्न होता है क्योंकि हड्डियों में ऊतक एक दूसरे से जुड़ा  होता है। चलते-चलते पैर के अचानक मुड़ जाने, दौड़ते वक्त पैर ट्विस्ट हो जाने या फिर गिरने की वजह से पैर में मोच आ जाती है। दरअसल, हड्डियों में किसी भी तरह का डैमेज होने से मोच की समस्या होती है।

आमतौर पर मोच बहुत बड़ी समस्या नहीं है। लेकिन सही समय पर उपचार नहीं करने से समस्या और बढ़ जाती है। मोच की समस्या अक्सर लोगो को व्यायाम, कैल्शियम की कमी, पोटेशियम की कमी या चोट लगने के कारण हो जाता है। मोच आने पर व्यक्ति के मांसपेशियो में दर्द व ऐंठन उत्पन्न हो जाता है। मोच होने पर व्यक्ति कुछ दिनों तक अपने काम करने में असमर्थ रहता है। यह समस्या किसी को कभी भी किसी भी उम्र के लोगो को हो सकती है। आइए जानते है इस आर्टिकल में मोच की समस्या से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे के बारे में। 

मोच को ठीक करने के लिए घरेलु नुस्खे Bone injury home relief ideas.

लौंग का तेल है असरदार Clove oil benefits

ये भी पढ़ें:-

जैसा की आपको पता है लौंग के तेल को दांत से जुडी समस्या के लिए अधिक उपयोग में लाया जाता है। उसी तरह, यह तेल मोच की समस्या को ठीक करने में मदद करता है। इसमें एनेस्टेथिक गुण मौजूद है जो सूजन व दर्द को कम करता है। लौंग के तेल को एक या दो चम्मच ले और इसे कुछ देर के लिए छोड़ दे। इसके बाद हल्के हाथो से प्रभावित जगह पर लगा ले और मालिश करे। इस प्रक्रिया से मांसपेशिया के दर्द से आराम मिलता है। दिन में तीन से चार बार लौंग के तेल से मालिश करे।

बर्फ से सिकाई करें Ice treatment

अगर मोच आने के तुरंत बाद आप उस जगह पर बर्फ की सिकाई कर दें तो सूजन नहीं आती। इसके अलावा बर्फ की सिकाई करने से पेन में भी आराम मिलता है।  ऐसे में मोच आने पर हर एक से 2 घंटे मे बर्फ से सिकाई करनी चाहिए। डायरेक्ट आइस क्यूब से कभी भी सिकाई नहीं करनी चाहिए। बर्फ को हमेशा किसी कपड़े में लपेटकर सिकाई करना सही तरीका है। 

सेंधा नमक का उपयोग Treatment with Rock salt

सेंधा नमक सूजन विरोधी होता है और मांसपेशियो के दर्द व ऐंठन को कम करने में मदद करते है। इसमें प्राकृतिक तौर पर मैग्नीशियम होता है जो हड्डियों के दर्द को दूर करता है। यह नमक द्रव पदार्थ को बाहर निकाल देता है और सूजन से आराम दिलाता है। मोच को ठीक करने के लिए दो कप सेंधा नमक ले। उसे एक बाल्टी गुनगुने पानी में मिलाये। इस पानी से स्नान कर सकते है या प्रभवित अंग को डालकर बैठ सकते है। याद रखे प्रभावित जगह पर बेंडेड लगा लें। इस प्रक्रिया को तब तक करे जब तक आपके मोच कम नहीं हो जाये। 

हल्दी चुना चढ़ाएं Treatment with Turmeric

आप एक कटोरी या पैन में दो चम्मच हल्दी और एक चम्मच चूना लें। फिर उसको अच्छी तरह से फेंटकर धीमी आंच में एक-दो मिनट गर्म करें  और गुनगुना गर्म अवस्था में मोच वाले जगह पर लगायें। जब तक न सूखे इसे हटाएँ नहीं, सूखने के बाद गुनगुने गर्म पानी से धो लें। आपको कुछ देर में आराम मिलने लगेगा। जब तक तक दर्द कम न हो नियमित रूप से इस लेप को दिन में दो बार लगा सकते हैं। इसको लगाने के बाद उस जगह पर ज्यादा हिलाये-डुलाये नहीं। हल्दी का एन्टी-इन्फ्लैमटोरी गुण सूजन को कम करने में बहुत मदद करता है।

तुलसी की पत्तियों का पेस्ट चढ़ाएं Treatment with Holy-basil paste

तुलसी का पौधा तो हर घर में मिलता है। चोट लगने पर तुरन्त तुलसी की कुछ पत्तियों को पीसकर पेस्ट बना लें और उसको चोट वाले स्थान पर लगायें। तुलसी का औषधिय गुण अपना चमत्कार दिखायेगा।

सेब का सिरका है फायदेमंद  Benefits of Apple vinegar 

सेब के सिरके में अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होता है। इसके अलावा एंटीबैक्टीरियल गुण मौजूद होता है, जो सूजन व दर्द को कम करता है। सेब का सिरका बहुत से रोगो के जोखिम को कम करता है। इसलिए सेब का सिरका मोच से राहत पहुंचाता है। इसका उपयोग करने के लिए एक बाल्टी में गर्म पानी डालकर दो चम्मच सेब का सिरका मिला कर स्नान करे व प्रभावित जगह को इस पानी में थोड़ी देर डुबाकर रखे ताकि सूजन व दर्द कम हो सके। इस प्रक्रिया को दिन में एक बार करे।

जैतून का तेल दे राहत Benefits of olive-oil

जैतून के तेल कुछ ऐसे कम्पाउंड होते है जो सूजन विरोधी होते है। इसकी सहायता से पैरों की मोच को आसानी से ठीक कर सकते है। इस तेल का उपयोग बहुत से रोगो के लिए किया जाता है। क्योंकि यह सेहत के लिए लाभदायक होता है। जैतून के तेल का उपयोग करने के लिए सबसे पहले तेल को थोड़ा गर्म कर ले, फिर प्रभावित जगह पर हल्के हाथ से मालिश करे। जैतून के तेल से मालिश करने से मोच से जल्दी आराम मिलता है। इस प्रकिया को दिन में कम से कम चार से पांच बार करे।

अरंडी का तेल लगाएं Benefits of castor oil

अरंडी के तेल में बहुत से औषधीय गुण होते है जो हड्डियों के दर्द को कम करता है। गठिया रोग के लोगो के लिए अरंडी के तेल से मालिश करने से सूजन व ऐंठन कम होता है। इसके अलावा मोच को ठीक करने के लिए अरंडी के तेल का उपयोग करना फायदेमंद होता है। अरंडी के तेल को साफ कपडे में लगाकर प्रभवित जगह पर लगाए और किसी चीज से ढक दे, इसके ऊपर गर्म पानी की बोतल रख कर कुछ मिनटों में हटा दे। इसके बाद उस जगह पर हल्के हाथ से मालिश करे, इस प्रक्रिया को पुरे दिन में एक बार रोजाना करें। जब तक आपका मोच पूरी तरह से ठीक न हो जाए। 

टखने की चोट के लिए प्याज का उपयोग Treatment with onion

प्याज में प्राकृतिक तौर पर सूजन विरोधी गुण होता है। यह टखने की चोट, उंगलिया, गठिया के दर्द को कम करता है। प्याज का उपयोग करने के लिए इसको छोटे छोटे टुकड़े में काट ले। इस कटे हुए प्याज को सूती कपडे में लपेटकर प्रभावित जगह पर बांध ले। इसे प्रभावित जगह पर दो घंटे के लिए कम से कम रहने दे। इस प्रक्रिया को दिन में एक बार करें।

एलोवेरा जेल का उपयोग Benefits of Aloe Vera

मोच ठीक करने के लिए एलोवेरा जेल का उपयोग किया जाता है। एलोवेरा जेल से मालिश करने से मोच के दर्द से आराम मिलता है। इसके अलावा एलोवेरा की आयुर्वेदिक दवा खिलाड़ियों के पैरो में मोच आने पर दिया जाता है। ताकि जल्दी आराम मिल सके। यदि आप एलोवेरा की आयुर्वेदिक दवा लेना चाहते है तो चिकित्स्क से परामर्श करें।

नोट: ऊपर दी गई सारी जानकारियां पब्लिक्ली उपलब्ध जानकारियों और सामाजिक मान्यताओं पर आधारित है, subkuz.com इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता.किसी भी  नुस्खे  के प्रयोग से पहले subkuz.com विशेषज्ञ से परामर्श लेने की सलाह देता है.

Leave a comment