आयुर्वेदिक जड़ी बूटी में बेशुमार, बुखार की नेचुरल दवा है कुटकी जानें कैसे. अनमोल घरेलु नुस्खे !

आयुर्वेदिक जड़ी बूटी में बेशुमार, बुखार की नेचुरल दवा है कुटकी जानें कैसे. अनमोल घरेलु नुस्खे !
Last Updated: Mon, 09 Jan 2023

आयुर्वेदिक जड़ी बूटी में बेशुमार, बुखार की नेचुरल दवा है कुटकी जानें  Countless in Ayurvedic herbs, kutki is a natural medicine for fever

 

पुनर्प्रकाशित सामग्री:

 

**स्वास्थ्य देखभाल में आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का महत्व**

आयुर्वेद औषधीय जड़ी-बूटियों को बहुत महत्व देता है। प्राचीन काल से ही इन जड़ी-बूटियों का उपयोग विभिन्न बीमारियों और विकारों के इलाज के लिए किया जाता रहा है। कुटकी एक ऐसी औषधीय जड़ी बूटी है। यह परंपरागत रूप से पहाड़ी क्षेत्रों में पाया जाता है लेकिन अब इसका मिलना दुर्लभ है। प्राचीन काल में लगभग सभी बीमारियों का इलाज आयुर्वेद की मदद से किया जाता था। हालाँकि, आज के आधुनिक युग में, केवल कुछ ही लोग आयुर्वेदिक पद्धतियों का पालन करते हैं। कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियाँ इतनी प्रभावी हैं कि वे कई गंभीर बीमारियों को नियंत्रित कर सकती हैं।

ये भी पढ़ें:-

 

**कुटकी क्या है?**

कुटकी का स्वाद कड़वा और तीखा होता है इसलिए इसे कटुंभरा भी कहा जाता है। कुटकी एक शक्तिशाली आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जो बुखार, लीवर की समस्याओं, वजन नियंत्रण और विभिन्न संक्रमणों को रोकने में मदद करती है। साथ ही कुटकी का सेवन कफ और पित्त को नियंत्रित करने में मदद करता है।

 

**कुटकी के औषधीय गुण**

आयुर्वेद के अनुसार, कुटकी का स्वाद कड़वा और तीखा होता है और यह स्वाभाविक रूप से ठंडा होता है। यह हल्का और पाचक होने के गुणों से युक्त है। पचने के बाद भी कुटकी का स्वाद कड़वा होता है। यह बुखार को खत्म करने, दस्त को ठीक करने, परजीवियों को नष्ट करने, भूख बढ़ाने और कफ और पित्त को नियंत्रित करने में उपयोगी है। यह मूत्र विकार, दमा, हिचकी, जलन आदि रोगों में लाभकारी है।

 

**घावों को ठीक करें**

हल्दी की तरह, कुटकी में भी कई एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो त्वचा को राहत देते हैं और संक्रमण, घावों और घावों को जल्दी ठीक करने में मदद करते हैं। एक अध्ययन में पाया गया है कि कुटकी सोरायसिस और विटिलिगो जैसी त्वचा की समस्याओं को कम करने में फायदेमंद है।

 

**बुखार से राहत**

जब किसी व्यक्ति को बुखार होता है और शरीर का तापमान अचानक बढ़ जाता है, तो रोगी आमतौर पर बुखार की दवा लेता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुटकी का सेवन शरीर के तापमान को कम करने और बुखार को कम करने में मदद कर सकता है? कुटकी के ज्वरनाशक गुण अचानक ठंड लगने और शरीर के तापमान में वृद्धि के लिए जिम्मेदार सूजन को कम करते हैं। कुटकी का सेवन आप गर्म पानी या घी के साथ कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त, आप कुटकी को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

**लिवर को स्वस्थ रखता है**

कुटकी एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जो लीवर के स्वास्थ्य को बढ़ावा देती है और विभिन्न बीमारियों से बचाती है। यह 'पित्त' के कारण होने वाले असंतुलन को कम करने में मदद करता है और 'पित्त' विकारों को रोकता है। इसके अतिरिक्त, कुटकी में 'कुटकिन' या 'पिक्रोलिव' नामक एक महत्वपूर्ण एंजाइम होता है जो लीवर के उचित कामकाज को सुनिश्चित करता है और विषाक्त पदार्थों को खत्म करता है। लिवर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए आयुर्वेदिक जड़ी बूटी कुटकी बहुत फायदेमंद है।

 

**वजन नियंत्रित करता है**

अगर आप बढ़ते वजन से परेशान हैं और वजन घटाने के लिए हर तरीका आजमा चुके हैं लेकिन सफलता नहीं मिली है तो आपको कुटकी का सेवन करना चाहिए। कुटकी के सेवन से गैस्ट्रिक फंक्शन बढ़ता है और मेटाबॉलिज्म बूस्ट होता है। इससे पाचन फाइबर का उत्पादन होता है, जो शरीर में अनियंत्रित वसा को कम कर सकता है। उचित आहार और व्यायाम के साथ-साथ कुटकी का नियमित सेवन भी प्रभावी ढंग से वजन कम करने में मदद कर सकता है।

नोट: ऊपर दी गई सारी जानकारियां पब्लिक्ली उपलब्ध जानकारियों और सामाजिक मान्यताओं पर आधारित है, subkuz.com इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता.किसी भी  नुस्खे  के प्रयोग से पहले subkuz.com विशेषज्ञ से परामर्श लेने की सलाह देता है.

Leave a comment

ट्रेंडिंग