डायबिटीज है तो रहें सावधान, शुगर बढ़ने के हो सकते हैं ये संकेत, सतर्क रहें स्वस्थ रहें. अनमोल घरेलू नुस्खे !

डायबिटीज  है तो  रहें सावधान, शुगर बढ़ने के हो सकते हैं ये संकेत, सतर्क रहें स्वस्थ रहें. अनमोल घरेलू नुस्खे !
Last Updated: Wed, 11 Jan 2023

सुबह दिखें ऐसे लक्षण तो टाइप-2 डायबिटीज हो जाएं सावधान, शुगर बढ़ने के हो सकते हैं संकेत जानें   If protection is seen in the morning, then it becomes type to diabetes be careful there can be signs of increasing sugar

मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जो अक्सर अनियंत्रित रहती है, इसका प्रचलन साल दर साल तेजी से बढ़ता जा रहा है। भारत सरकार का अनुमान है कि वर्ष 2025 तक भारत में मधुमेह रोगियों की संख्या 6.99 करोड़ तक बढ़ सकती है। वहीं, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इस बीमारी के तेजी से बढ़ते मामलों को देखते हुए लोगों को सचेत रहने की सलाह दी है। विशेषज्ञों के मुताबिक, डायबिटीज एक नहीं बल्कि कई अन्य बीमारियों का कारण बन सकती है, इसलिए लोगों को सतर्क रहना जरूरी है। मधुमेह के लिए उचित प्रबंधन महत्वपूर्ण है, क्योंकि ऊंचा रक्त शर्करा स्तर विभिन्न अंगों के लिए हानिकारक हो सकता है। रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि से गुर्दे की क्षति, अंधापन और हृदय रोग हो सकते हैं। इसलिए, मधुमेह के रोगियों के लिए रक्त शर्करा के स्तर की नियमित निगरानी की सिफारिश की जाती है।

अक्सर, मरीज़ इस बात से अनजान होते हैं कि दिन भर में उनके रक्त शर्करा के स्तर में कैसे उतार-चढ़ाव होता है। सुबह के समय शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलावों के कारण रक्त शर्करा का स्तर अलग-अलग हो सकता है। नतीजतन, कुछ लक्षण बढ़े हुए शर्करा स्तर का संकेत दे सकते हैं, और इन लक्षणों को पहचानना आवश्यक हो सकता है। आइए इस विषय पर गहराई से विचार करें।

 

सुबह के समय बढ़ा हुआ शुगर लेवल:

ये भी पढ़ें:-

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, रात के दौरान शरीर इंसुलिन के स्तर को ठीक से नियंत्रित नहीं कर पाता है, जिससे सुबह रक्त शर्करा के स्तर में उतार-चढ़ाव होता है। अधिकांश लोगों को सुबह के समय रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि का अनुभव होता है। टाइप 2 मधुमेह के लगभग 50% रोगियों को सुबह के समय ऊंचे रक्त शर्करा स्तर से संबंधित कठिनाइयों का अनुभव हो सकता है।

 

आमतौर पर, बढ़े हुए शुगर लेवल को इन लक्षणों से पहचाना जा सकता है:

- चक्कर आना

- जी मिचलाना

- धुंधली दृष्टि

- मुश्किल से ध्यान दे

-अत्यधिक प्यास लगना

सुबह के समय शुगर लेवल बढ़ने की घटना:

यूके के बोर्ड ऑफ डायबिटीज रिसर्च एंड वेलनेस फाउंडेशन की पोषण विशेषज्ञ डॉ. सारा ब्रेवर का कहना है कि हमारी प्राकृतिक सर्कैडियन लय के कारण, कई लोगों को सुबह के समय रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि से संबंधित समस्याओं का अनुभव हो सकता है। चिकित्सीय भाषा में इस घटना को डॉन फेनोमेनन के नाम से जाना जाता है।

डॉन फेनोमेनन की समस्या हमारी प्राकृतिक सर्कैडियन लय के कारण होती है, जहां नींद के दौरान इंसुलिन का उत्पादन कम हो जाता है, जबकि ग्लूकोज (विकास हार्मोन, ग्लूकागन और कोर्टिसोल) बढ़ाने वाले अन्य हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है।

 

रक्त शर्करा का सामान्य स्तर क्या है:

अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन (एडीए) के अनुसार, हर किसी को नियंत्रित रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने का प्रयास करना चाहिए। आमतौर पर, एडीए ने चीनी के लिए निम्नलिखित स्तरों को सामान्य के रूप में परिभाषित किया है:

- भोजन से पहले: 80 से 130 मिलीग्राम/डीएल

- भोजन के दो घंटे बाद: 180 मिलीग्राम/डीएल से कम

हालाँकि, एडीए के अनुसार, लक्ष्य रक्त शर्करा का स्तर उम्र, किसी अतिरिक्त स्वास्थ्य समस्या और अन्य कारकों जैसे कारकों के आधार पर भिन्न हो सकता है। इस संबंध में अपने डॉक्टर से परामर्श करना उचित है।

 

सुबह रक्त शर्करा में वृद्धि को रोकने के सरल उपाय:

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, सुबह के समय बढ़े हुए शुगर लेवल को नियंत्रित करने के लिए आप कुछ सरल नियमों का पालन कर सकते हैं। डॉक्टर से सलाह लेकर आप रक्त शर्करा के स्तर में उतार-चढ़ाव को नियंत्रित करने के लिए रात में दवा या इंसुलिन ले सकते हैं। इसके अलावा, रात का खाना जल्दी खा लें और खाने के बाद टहलें। रात के समय कार्बोहाइड्रेट बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों से बचें। यदि आपका ग्लूकोज स्तर सुबह के समय बढ़ता रहता है, तो आहार और जीवनशैली में बदलाव पर अपने डॉक्टर की सलाह का पालन करें और नियमित रूप से अपने शर्करा स्तर की निगरानी करें।

 

नोट: ऊपर दी गई सारी जानकारियां पब्लिक्ली उपलब्ध जानकारियों और सामाजिक मान्यताओं पर आधारित है, subkuz.com इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता.किसी भी  नुस्खे  के प्रयोग से पहले subkuz.com विशेषज्ञ से परामर्श लेने की सलाह देता है.

Leave a comment


ट्रेंडिंग