वास्तु शास्त्र व ईशान दिशा का ज्ञान

वास्तु शास्त्र व ईशान दिशा का ज्ञान
Last Updated: Mon, 30 Jan 2023

वास्तु शास्त्र के अनुसार, समृद्धि और खुशहाली सुनिश्चित करने के लिए अपने घर में कोई भी वस्तु रखते समय दिशाओं का विशेष ध्यान रखना आवश्यक है। वास्तु में पूर्व और उत्तर दिशाएं जिस बिंदु पर मिलती हैं उसे ईशान कोण माना जाता है। वास्तु शास्त्र में इस कोने को ईशान दिशा कहा गया है। हिंदू धर्मग्रंथों में भगवान शिव को ईशान कोण के नाम से भी जाना जाता है और उनका प्रभाव उत्तर-पूर्व दिशा से जुड़ा है, इसीलिए इसे ईशान कोण कहा जाता है। इस दिशा के स्वामी ग्रह बृहस्पति और केतु हैं, जबकि ब्रह्मा और भगवान शिव को इस दिशा का देवता माना जाता है। इस दिशा में दरवाजे और खिड़कियां होना बेहद शुभ होता है। इस दिशा में कष्ट मन और बुद्धि पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है, जबकि ईशान दिशा में वास्तु दोषों का समाधान मानसिक क्षमताओं पर सकारात्मक प्रभाव डालता है, शांति, समृद्धि और पारिवारिक संबंधों के लिए अनुकूल परिणाम लाता है।

 

देव दिशा ईशान दिशा है

ईशान दिशा को देव दिशा भी कहा जाता है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत ईशान दिशा की ओर करके की जाती है। यह दिशा ज्ञान, धैर्य, ज्ञान, भक्ति, वैराग्य और बुद्धि जैसे गुण प्रदान करती है। भवन में इस दिशा को शुद्ध एवं पवित्र रखना अति आवश्यक है। प्रदूषित ईशान दिशा निवासियों के लिए संघर्ष और विभिन्न कठिनाइयों का कारण बन सकती है, जिससे उनकी बुद्धि पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। उत्तरपूर्वी दिशा, या ईशान कोण, जल तत्व का प्रतीक है और ब्राह्मणों, बच्चों और मेहमानों के रहने के लिए आदर्श है। इस दिशा में पूजा या अध्ययन के लिए जगह बनाना शुभ माना जाता है।

ये भी पढ़ें:-

ईशान दिशा में शुभ स्थिति

घर का ईशान भाग सबसे पवित्र माना जाता है। प्राचीन वास्तु विशेषज्ञ इसकी तुलना कुबेर की नगरी अलकापुरी से करते हैं और इसे साफ-सुथरा और खाली रखने पर जोर देते हैं। यहां पानी की व्यवस्था जैसे कुएं, बोरवेल, पानी के बर्तन या पेयजल प्रबंधन करना चाहिए। साथ ही, इस स्थान को आध्यात्मिक क्षेत्र में तब्दील किया जा सकता है। इस दिशा में घर का मुख्य द्वार होना वास्तु की दृष्टि से बेहद शुभ माना जाता है।

 

ईशान दिशा में वास्तु दोष

वास्तु के अनुसार घर के ईशान कोण में कभी भी भारी वस्तुएं नहीं रखनी चाहिए। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह अवरुद्ध हो सकता है, जिससे वित्तीय नुकसान हो सकता है। इसलिए इस क्षेत्र में भारी अलमारी, भंडारण कक्ष आदि का निर्माण करने से बचें।

 

घर की ईशान दिशा सबसे पवित्र मानी जाती है, जो भगवान के निवास का प्रतीक है। इसलिए, इस क्षेत्र में कभी भी जूते, चप्पल या कूड़ा इकट्ठा न करें क्योंकि यह नकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित कर सकता है और घर में अशांति पैदा कर सकता है।

घर के ईशान कोने में शौचालय बनाने से बचें क्योंकि इससे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं, जिसके परिणामस्वरूप अनावश्यक खर्च हो सकता है।

यह भी सलाह दी जाती है कि नवविवाहितों के लिए शयनकक्ष ईशान कोण में न बनाएं क्योंकि इससे रिश्तों में कलह और अनावश्यक समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

Leave a comment

ट्रेंडिंग