दुनिया के 5 सबसे अद्भुत आईलैंड्स, जहाँ चलता है सिर्फ जानवरों का राज

दुनिया के 5 सबसे अद्भुत आईलैंड्स, जहाँ चलता है सिर्फ जानवरों का राज
Last Updated: Thu, 09 Feb 2023

दुनिया अजब-गजब रहस्यों से भरी हुई है। एक रहस्य सुलझता है तब तक दूसरा रहस्य सामने आ जाता है। दुनिया के हर देश में आपको कुछ ऐसी जगहें जरूर मिल जाएंगी जिनके बारे में बहुत कम लोगों को पता होता है। इन जगहों से जुड़ी हुई अपनी एक अलग ही कहानी और विशेषता होती है। इसी क्रम में पूरी दुनिया में कुछ ऐसे द्वीप भी हैं जो अपने आप में अनोखे और बेहद खूबसूरत हैं। ये द्वीप अपनी इन्हीं खूबियों के कारण पर्यटकों को भी अपनी और आकर्षित करते हैं। आज हम आपसे ऐसे अनोखे द्वीप के बारे में बात करेंगे जहां इंसान नहीं रहते हैं। इस द्वीप पर सिर्फ जानवरो का बसेरा है। तो आइए जानते हैं उन द्वीप के बारे में जाने जहां इंसान नहीं बल्कि जानवरों का राज चलता है। 

 

रैबिट आइलैंड (जापान) 

जापान के ओकुनोशिमा को रैबिट आइलैंड कहा जाता है। इस द्वीप पर खरगोशों की इतनी ज्यादा संख्या होने की एक और वजह का पता चला है। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान रासायनिक हथियारों की प्रभावशीलता का परीक्षण करने के लिए इन खरगोशों को इस द्वीप पर लाया गया और छोड़ दिया गया। हालांकि, जापान सरकार का कहना है कि उन खरगोशों को उसी समय नष्ट कर दिया गया था। सरकार ये भी कहती है कि जो खरगोश अभी है उनका उस समय के खरगोशों से कोई लेना देना नहीं है। 

इस टापू पर पाए जाते हैं हजारों खरगोश

ये भी पढ़ें:-

एक अन्य कहानी के अनुसार, साल 1971 में कुछ स्कूली बच्चे यहां पिकनिक मनाने आए थे। ये बच्चे अपने साथ 8 खरगोश लेकर आए थे। आज इन्हीं खरगोशों की संख्या बढ़कर हजारों में हो चुकी है। इस द्वीप पर इतने खरगोशों की संख्या बढ़ने की मुख्य वजह इनका शिकार न होना भी बताया जाता है। इस द्वीप पर कुत्ते और बिल्ली जैसे जानवर नहीं पाए जाते हैं जो इनका शिकार करते हैं। इस आइलैंड पर कुत्ते बिल्ली लाना प्रतिबंधित है। ये द्वीप अब "रैबिट आइलैंड" के नाम से जाना जाता है।

पिग बीच, बाह्मस 

इस द्वीप पर जाते ही पानी में तैरते हुए छोटे छोटे सूअर आपका जोरदार खर्राटों से स्वागत करेंगे। कहा जाता है कि ये नाविकों के एक समूह ने कुछ सूअरों को इस सोच के साथ यहां छोड़ दिया था कि जब वह दोबारा लौटेंगा तो इन सूअरों को अपने भोजन के रूप में इस्तेमाल करेंगे।  लेकिन सूअरों की किस्मत अच्छी थी कि वे नाविक दोबारा इस द्वीप पर कभी लौटे ही नहीं। जिसकी वजह से सुअरों की जान बच गई और धीरे-धीरे उनकी आबादी में वृद्धि होने लगी। वर्तमान में पिग बीच पर सुअरों की संख्या लाखों पहुँच गई है, जो पानी में तैरना भी जानते हैं।

पिग बीच (Pig Beach) को लेकर यह भी कहा जाता है कि सालों पहले एक जहाज सुअरों को लेकर इस द्वीप के पास से गुजर रहा था, तभी वह पानी में डूब गया। उस जहाज में से कुछ सुअर अपनी जान बचाकर समुद्र किनारे तक पहुँचने में कामयाब हो गए थे, जिनकी संख्या बीतते समय के साथ बढ़ती चली गई। आज पिग बीच (Pig Beach) बाह्मास का चर्चित पर्यटन स्थल बन चुका है, जहाँ पानी में अलग-अलग रंगों वाले सुअर तैरते हुए दिखाई देते हैं। यहाँ रहने वाले सुअर पर्यटकों को देखकर बहुत ही खुश होते हैं यात्री यहां आ कर इन सूअरों के साथ फ़ोटो खींचाने और इनके साथ मस्ती करने के लिए उत्साहित रहते हैं। 

कैट्स लेज़ (ओशिमा)

इस आईलैंड पर सिर्फ 6 इंसान रहते हैं, जो यहाँ के स्थानीय निवासी हैं। शुरुआती समय में इस आईलैंड पर इंसानों की आबादी काफी ज्यादा थी, जो मछलियाँ पकड़ कर अपनी आजीविका चलाते थे। लेकिन ओशिमा आईलैंड पर चूहों की मात्रा बहुत ज्यादा थी, जिसकी वजह से यहाँ के स्थानीय लोग चूहों को भगाने के लिए कुछ बिल्लियाँ लेकर आ गए। इस तरह बिल्लियों ने बड़ी संख्या में चूहों का शिकार किया और उनकी आबादी बढ़ती चली गई, लेकिन इसके साथ ही स्थानीय लोगों ने आजीविका चलाने के लिए पलायन करना ( जाना )शुरू कर दिया। इस तरह लोगों की आबादी घटती चली गई, जबकि चूहों को खाकर जिंदा रहने वाली बिल्लियों की आबादी में कई गुना इजाफा ( बढ़ोतरी )हो गया। लेकिन अब ओशिमा आईलैंड पर बिल्लियों को खाने की कमी का सामना करना पड़ता है, क्योंकि यहाँ चूहे खत्म हो गए हैं। ऐसे में इस आईलैंड में घूमने के लिए जाने वाले पर्यटक बिल्लियों के लिए भोजन लेकर जाते हैं, जिससे उन्हें जिंदा रहने में मदद मिलती है।

मंकी आइलैंड (पुएर्तो रिको)

बंदरों का ये आईलैंड को इस्ला डी लॉस मोनोस के नाम से भी जाना जाता है, इस टापू में सैकड़ों बंदरों का घर है, जहाँ जंगली रीसस मकाक नामक प्रजाति के बंदरों की बड़ी आबादी निवास करती है। जहाँ आम लोगों को जाना प्रतिबंधित है। दरअसल मंकी आईलैंड को कैरेबियन प्राइमेट रिसर्च सेंटर के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, जो पुएर्तो रिको विश्वविद्यालय की देखरेख में काम करता है। इस रिसर्च सेंटर ने साल 1938 में भारत से 400 बंदर मंगवाए थे, जिनके ऊपर रिसर्च कार्य किया जाना था।

यही वजह है कि मंकी आईलैंड में प्रवेश करने के लिए व्यक्ति का वन्य जीवों का शोधकर्ता होना जरूरी है, इसके अलावा आम पर्यटकों का इस द्वीप पर जाने या घूमने फिरने पर सख्त पाबंदी है। हालांकि अगर आप बंदरों को देखना चाहते हैं, तो नाव से समुद्र तट तक जाकर बंदरों के साथ खेल कूद कर सकते हैं।

सांपों का द्वीप (ब्राजील)

ब्राजील के साओ पाओलो तट से 90 मील की दूरी पर स्थित, इल्हा दा क्यूइमाडा ग्रांडे पहली नज़र में किसी सुंदर वर्षावन द्वीप की तरह लगता है। लेकिन सावधान ये उतना ही खतरनाक है क्योंकि यहां हजारों विषैले सांप रहते हैं। यही वजह है कि इसे धरती का सबसे खतरनाक द्वीप माना जाता है। 

कहा जाता है कि यहां हर मीटर पर आपको एक सांप देखने को मिल जाएगा। कहते हैं इस द्वीप पर जाने वाला शख्स खुद से मौत को दावत देने का काम करता है। इस बड़े जोखिम के कारण ही ब्राजील सरकार ने यहां नागरिकों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है। केवल विशेष अनुमति वाले वैज्ञानिकों को ही तट पर जाने की अनुमति मिलती है।

Leave a comment