Hathras Satsang Stampede: रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने हाथरस हादसे पर जताया दुःख, प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति को भेजा शोक संदेश, हादसे में 120 की मौत

Hathras Satsang Stampede: रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने हाथरस हादसे पर जताया दुःख, प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति को भेजा शोक संदेश, हादसे में 120 की मौत
Last Updated: Wed, 03 Jul 2024

हाथरस हादसे पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जाहिर किया है। रूस के राष्ट्रपति ने घटना पर दुख जताते हुए सोशल मीडिया एक्स पर पोस्ट कर पीएम मोदी के नाम एक शोक संदेश लिखा है। उन्होंने शोक संदेश में मृतकों के परिजनों और घायलों के प्रति सहानुभूति व्यक्त की।

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के हाथरस सत्संग में हुई जन त्रासदी पर रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने दुख जाहिर किया है। पुतिन ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को शोक संदेश भेजकर हादसे में मारे वाले लोगों के परिजनों और घायलों के प्रति सहानुभूति व्यक्त की हैं. उन्होंने घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना भी की हैं। बता दें कि इस हादसे में अबतक 120 लोगों की मौत की खबर सामने आई हैं।

Subkuz.com ने बताया कि उत्तर प्रदेश के हाथरस में स्वयंभू बाबा उर्फ ​​नारायण साकार हरि धाम में धार्मिक आयोजन समाप्ति के समय अचानक भगदड़ मचने से 120 से लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी हैं। हाथरस भगदड़ में 100 से अधिक महिलाओं और सात बच्चों सहित अन्य लोग मारे गए. इस हादसे में 28 से अधिक लोग घायल हो गए।

हाथरस में कैसे मची भगदड़?

ये भी पढ़ें:-

अधिकारियों ने Subkuz.com को बताया कि जिस स्थान पर हाथरस में भगदड़मची थी, वहां एकत्र हुई भीड़ को समायोजित करने के लिए बहुत ही छोटा था। सत्संग समाप्त होने के बाद जब नारायण साकर हरि जा रहे थे, तो उनके अनुयायियों में उनकी कार के टायरों के निशान से धूल इकट्ठा करने की होड़ मच गई। इससे वहां मौजूदा भक्तों में कम स्पेस के कारण भगदड़ मच गई और सैकड़ों लोग निचे गिरकर पैरो से कुचले गए। अधिकारियों ने बताया कि उनके सहयोगियों (सेवादार) ने भीड़ को रोक कर शांत नहीं किया था और भाग रहे लोग एक-दूसरे पर गिर पड़े, जिससे नीचे खड़े लोगों का दम घुटने से कई की मौत हो गई।

Leave a comment


ट्रेंडिंग