शनि के साढ़ेसाती और ढैय्या से पीड़ित राशि के लोग गुरू पूर्णिमा के दिन जरूर करें ये उपाय, होगा समस्या का निदान

शनि के साढ़ेसाती और ढैय्या से पीड़ित राशि के लोग गुरू पूर्णिमा के दिन जरूर करें ये उपाय, होगा  समस्या का निदान
Last Updated: Fri, 20 Jan 2023

शनि के साढ़ेसाती और ढैय्या से पीड़ित यें राशि के लोग गुरू पूर्णिमा के दिन जरूर करें ये उपाय, होगा समस्या का निदान   People of these zodiac signs suffering from Shani's Sade Sati and Dhaiya must do this remedy on the day of Guru Purnima, the problem will be solved

 

पुनर्प्रकाशित सामग्री:

आषाढ़ माह की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इसी दिन महर्षि वेदव्यास का जन्म हुआ था। गुरु वेदव्यास ही थे जिन्होंने सबसे पहले मानव जाति को चारों वेदों का ज्ञान दिया था, इसलिए उन्हें पहले गुरु के रूप में सम्मानित किया जाता है और उनके जन्मदिन को गुरु पूर्णिमा या व्यास पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है। ज्योतिषियों का मानना है कि इस वर्ष गुरु पूर्णिमा पर शनिदेव की पूजा का विशेष संयोग बन रहा है। इसलिए, शनि की साढ़े साती और ढैय्या की चुनौतीपूर्ण अवधि से गुजर रहे व्यक्तियों के लिए, यह उनकी कठिनाइयों से राहत पाने का एक विशेष अवसर है। गुरु पूर्णिमा पर ऐसे व्यक्ति अपनी परेशानियों को कम करने के लिए शनिदेव से जुड़े विशेष उपाय कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें:-

 

संकट पर काबू पाने के लिए:

जब शनिदेव अप्रसन्न हो जाते हैं तो जीवन अक्सर परेशानियों से भर जाता है। इसलिए शनि की अशुभ दृष्टि के दुष्प्रभाव से बचने के उपाय जानना जरूरी है। ज्योतिष शास्त्र में कुछ ऐसे सरल उपाय बताए गए हैं जिनका पालन करने से आप शनि के नकारात्मक प्रभाव से बच सकते हैं।

1. शनिदेव की केवल आंखें दिखाई देने वाली किसी भी मूर्ति को देखने से बचें।

2. हर शनिवार को लाल वस्त्र पहनकर हनुमान जी के सामने हनुमान चालीसा का पाठ करें।

3.शाम के समय पश्चिम दिशा की ओर मुख करके दीपक जलाएं और शनिदेव के मंत्र का जाप करें।

4. परिवार के सदस्यों और सहायकों के साथ अच्छा व्यवहार रखें।

5. नीले रंग का अधिक प्रयोग करें।

6. शनिवार के दिन काले कुत्ते को सरसों के तेल में भिगोई हुई रोटी खिलाएं। यदि काला कुत्ता उपलब्ध न हो तो कोई भी कुत्ता पर्याप्त होगा।

7. जल में काले तिल मिलाकर भगवान शिव का जलाभिषेक करें। ऐसा माना जाता है कि शनिदेव उन लोगों का सम्मान करते हैं जो भगवान शिव की पूजा करते हैं और उन्हें अपनी पीड़ाओं से बचाते हैं।

8. पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं। साथ ही पास के किसी शनि मंदिर में दीपक जलाकर रखें।

9. जरूरतमंद लोगों को सरसों का तेल, काले तिल, लोहा, काली दाल और काले कपड़े का दान करें।

10. हनुमान जी की आराधना करें। ऐसा कहा जाता है कि जो लोग हनुमान जी की पूजा करते हैं उन्हें शनि देव परेशान नहीं करते हैं। इस दिन हनुमान जी के सामने दीपक जलाएं और हनुमान चालीसा का पाठ करें।

11. 'ओम शं शनैश्चराय नम:' मंत्र का जाप करते हुए पीपल के पेड़ की सात बार परिक्रमा करें। यह अभ्यास सिर्फ गुरु पूर्णिमा पर ही नहीं बल्कि शनिवार को भी करना चाहिए।

नोट - यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं, इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है।

Leave a comment

ट्रेंडिंग