भगवान श्री राम का जन्म कब हुआ? जानिए रोचक तथ्य

भगवान श्री राम का जन्म कब हुआ? जानिए रोचक तथ्य
Last Updated: Sun, 18 Feb 2024

हिंदू धर्म में भगवान श्री राम भगवान विष्णु के 10 अवतारों में से सातवें अवतार थे। रामायण हमें भगवान श्री राम के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करता है। उन्हें मर्यादा पुरूषोत्तम के नाम से जाना जाता है। हिंदू धर्म में भगवान श्री राम अत्यंत पूजनीय हैं। युगों की अवधारणा पुराणों एवं ज्योतिष शास्त्र में तीन प्रकार से मिलती है। पहला वह जहां एक युग लाखों साल तक चलता है, दूसरा वह जहां एक युग 5 साल तक चलता है और तीसरा वह जहां एक युग 1250 साल तक चलता है। तीनों युगों की अवधारणाओं को समझने के बाद हम आधुनिक युग में किए गए शोध को समझते हैं। आइए इस शोध के अनुसार जानें भगवान राम का जन्म कब हुआ था।

 

लाखों वर्ष के युग की संकल्पना:

पुराणों के अनुसार, भगवान श्री राम का जन्म त्रेता युग और द्वापर युग के बीच के संक्रमण काल में हुआ था। सतयुग लगभग 17,28,000 वर्षों तक, त्रेता युग लगभग 12,96,000 वर्षों तक, द्वापर युग लगभग 8,64,000 वर्षों तक और कलियुग लगभग 4,32,000 वर्षों तक चलता है। कलियुग की शुरुआत 3102 ईसा पूर्व में हुई थी। इसका मतलब यह है कि कलियुग के आरंभ से 3102 + 2022 = 5124 वर्ष बीत चुके हैं।

उपरोक्त अनुमान के अनुसार भगवान श्री राम का जन्म 8,69,124 वर्ष पूर्व हुआ था अर्थात भगवान श्री राम के जन्म को 8,69,124 वर्ष बीत चुके हैं। ऐसा कहा जाता है कि वह 11,000 वर्ष तक जीवित रहे। पारंपरिक मान्यता के अनुसार द्वापर युग के 8,64,000 वर्ष, राम के अस्तित्व के 11,000 वर्ष और द्वापर युग की समाप्ति के 5,124 वर्ष, कुल मिलाकर 8,80,111 वर्ष बीत चुके हैं। अत: परंपरागत रूप से भगवान राम का जन्म लगभग 8,80,111 वर्ष पूर्व माना जाता है।

ये भी पढ़ें:-

5 वर्ष के युग की कल्पना:

भारतीय ज्योतिषियों ने समय की अवधारणा को सूर्य के चारों ओर पृथ्वी की कक्षा पर आधारित नहीं किया। उन्होंने संपूर्ण आकाशगंगा में पृथ्वी की परिक्रमा पूरी करके आगे के समय की गणना वर्षों में की। एक वर्ष को 'संवत्सर' कहा जाता है। 1 वर्ष में 5 वर्ष होते हैं। संवत्सर, परिवत्सर, इद्वत्सर, अनुवत्सर और युगवत्सर ये पंचवर्षीय युग हैं।

बृहस्पति की गति के अनुसार 60 वर्षों में 12 युग होते हैं और प्रत्येक युग में 5 वर्ष होते हैं। 12 युगों के नाम हैं-प्रजापति, धाता, वृष, व्यय, खर, दुर्मुख, प्लव, परभव, रोधकृत, अनला, दुर्मति और क्षय। प्रत्येक पाँच वर्ष के पहले वर्ष को संवत्सर कहा जाता है। दूसरा है परिवत्सर, तीसरा है इद्वत्सर, चौथा है अनुवत्सर और पांचवां है युगवत्सर। इस गणना के अनुसार 5121 ईसा पूर्व कलियुग के आरंभ से अब तक कई युग बीत चुके हैं।

 

1250 वर्ष का एक युग:

एक पौराणिक मान्यता के अनुसार प्रत्येक युग की अवधि 1250 वर्ष मानी जाती है। इस प्रकार चारों युगों का एक चक्र 5000 वर्ष में पूरा होता है। इस अनुमान के अनुसार द्वापर और कलियुग प्रारम्भ हुए 2500 वर्ष बीत चुके हैं। इसका मतलब यह है कि भगवान राम का जन्म 2500 साल पहले हुआ था. यदि हम यह मान लें कि यह चारों युगों का तीसरा चक्र है तो भगवान राम का जन्म लगभग 5000 वर्ष पूर्व हुआ होगा।

 

हम इस धारणा को स्वीकार क्यों नहीं करते?

सबसे पहले तो युग की अवधि स्पष्ट नहीं है। दूसरा, भगवान श्रीराम की वंशावली के आधार पर गणना करें तो वह लाखों में नहीं बल्कि हजारों वर्षों में है। जैसे भगवान राम के बाद उनके पुत्र लव और कुश का जन्म हुआ और फिर उनके वंशजों में महाभारत काल में शल्य का जन्म हुआ। एक अध्ययन के अनुसार कुश की 50वीं पीढ़ी में शल्य का जन्म हुआ, जो महाभारत युद्ध में कौरवों की ओर से लड़े थे। शल्य के अलावा उनके बाद और भी कई लोग पैदा हुए, जैसे भटक्क्षय, उरुक्षय, बत्सद्रुह, प्रतिव्योम, दिवाकर, सहदेव, ध्रुवाश्च, भानुरथ, प्रतीताश्व, सुप्रतीप, मरुदेव, सुनक्षत्र, किन्नराश्रव, अंतरिक्ष, सुषेण, सुमित्र, बृहद्रथ, धर्म, कृतज्जय, व्रत, रंजय, संजय, शाक्य, शुद्धोधन, सिद्धार्थ, राहुल, प्रसेनजित, क्षुद्रक, कुलक, सुरथ और सुमित्र।

सिसौदिया, कुशवाह (कछवा), मौर्य, शाक्य, बैछला (बैसला) और गहलोत (गोहिल) वंश, जो वर्तमान समय में राजपूत वंश हैं, सभी भगवान श्री राम के वंशज हैं। जयपुर राजघराने की रानी पद्मिनी और उनका परिवार भी भगवान राम के पुत्र कुश के वंशज हैं। रानी पद्मिनी ने एक अंग्रेजी चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा कि उनके पति भवानी सिंह कुश के 309वें वंशज थे. अब यदि आप यह मान लें कि तीन पीढ़ियों का जीवन काल लगभग 100 वर्षों में पूरा होता है, तो आप इस 309वीं पीढ़ी के आधार पर अनुमान लगा सकते हैं।

भगवान श्री राम का जन्म कब हुआ था?

आधुनिक शोध पर आधारित धारणा उपरोक्त धारणा से अधिक सटीक लगती है। यह शोध रामायण में वर्णित खगोलीय स्थिति और देशभर में बिखरे साक्ष्यों पर आधारित है। सबूतों के इन टुकड़ों का मिलान कार्बन डेटिंग का उपयोग करके किया गया है। इस शोध के अनुसार, भगवान राम का जन्म 10 जनवरी 5114 ईसा पूर्व दोपहर 12:25 बजे हुआ था, जबकि सदियों से राम नवमी चैत्र माह (मार्च) के नौवें दिन मनाई जाती रही है। एक अन्य शोध से पता चलता है कि भगवान राम का जन्म 4 दिसंबर 7323 ईसा पूर्व यानी करीब 9339 साल पहले हुआ था। राम के जन्म पर कई अध्ययन हुए हैं, लेकिन सबसे सटीक शोध प्रोफेसर टोबियास ने किया था।

वाल्मिकी के अनुसार, भगवान श्री राम का जन्म चैत्र के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि और पुनर्वसु नक्षत्र में हुआ था, जब पांच ग्रह अपनी उच्च स्थिति में थे। इस प्रकार, सूर्य मेष राशि में 10 डिग्री पर था, मंगल मकर राशि में 28 डिग्री पर था, बृहस्पति कर्क राशि में 5 डिग्री पर था, शुक्र मीन राशि में 27 डिग्री पर था, और शनि तुला राशि में 20 डिग्री पर था।

Leave a comment