स्टेशन मास्टर कैसे बने, इसकी योग्यता क्या होनी चाहिए ?

स्टेशन मास्टर कैसे बने, इसकी योग्यता क्या होनी चाहिए ?
Last Updated: Tue, 17 Jan 2023

स्टेशन मास्टर कैसे बने, इसकी योग्यता क्या होनी चाहिए ?

वर्तमान युग में, अधिकांश युवा रेलवे क्षेत्र में नौकरी सुरक्षित करने की इच्छा रखते हैं क्योंकि भारतीय रेलवे रोजगार के अवसरों के मामले में सबसे बड़ा सार्वजनिक उद्यम है। रेलवे भर्ती बोर्ड नियमित रूप से विभिन्न पदों के लिए नियुक्तियों की घोषणा करता है। इनमें स्टेशन मास्टर का पद युवाओं के लिए सबसे प्रतिष्ठित पद है। एक स्टेशन मास्टर किसी भी रेलवे स्टेशन का प्रमुख और सबसे सम्मानित अधिकारी होता है। स्टेशन पर सभी गतिविधियों की देखरेख के लिए जिम्मेदार, स्टेशन मास्टर इसके सुचारू, सुरक्षित और कुशल संचालन को सुनिश्चित करता है। उनके कर्तव्यों में दूसरों की निगरानी करना, मार्गदर्शन प्रदान करना और यह सुनिश्चित करना शामिल है कि स्टेशन ठीक से काम करे। भारतीय रेलवे समय-समय पर इस पद के लिए भर्ती अधिसूचना जारी करता रहता है। यदि आप भी स्टेशन मास्टर बनने की इच्छा रखते हैं तो यह लेख इसके बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करेगा।

 

स्टेशन मास्टर क्या है?

स्टेशन मास्टर रेलवे स्टेशन का मुख्य अधिकारी होता है, जो स्टेशन पर होने वाली सभी गतिविधियों की देखरेख के लिए जिम्मेदार होता है। वे स्टेशन परिसर के भीतर प्रत्येक अधिकारी के काम की निगरानी और निर्देशन करते हैं। इसके अतिरिक्त, वे रेलवे स्टेशन की सुरक्षा और कुशल संचालन सुनिश्चित करने के लिए भी जिम्मेदार हैं। रेलवे द्वारा स्टेशन ड्यूटी के लिए नियुक्त सभी अधिकारियों में स्टेशन मास्टर का स्थान सबसे प्रतिष्ठित होता है। रेलवे स्टेशन के कंट्रोल रूम में बैठे कंट्रोलर मास्टर को स्टेशन पर होने वाले हर कार्य की जानकारी होती है। उनकी प्राथमिक जिम्मेदारी स्टेशन के भीतर प्रत्येक अधिकारी के काम की देखरेख और निर्देशन करना है।

ये भी पढ़ें:-

 

रेलवे में स्टेशन मास्टर बनने के लिए योग्यता

सबसे पहले आपके पास 10वीं कक्षा का सर्टिफिकेट होना चाहिए।

इसके बाद आपके पास 12वीं कक्षा का सर्टिफिकेट होना चाहिए।

रेलवे स्टेशन मास्टर बनने के लिए, उम्मीदवारों को अध्ययन के क्षेत्र की परवाह किए बिना, किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज या विश्वविद्यालय से स्नातक पूरा करना होगा। यदि आपके पास स्नातक की डिग्री है, तो आप रेलवे में स्टेशन मास्टर के पद के लिए आवेदन करने के पात्र हैं।

रेलवे में स्टेशन मास्टर बनने के इच्छुक उम्मीदवारों को कंप्यूटर का बुनियादी ज्ञान होना आवश्यक है।

यदि आप इन सभी पात्रता मानदंडों को पूरा करते हैं, तो आप रेलवे में स्टेशन मास्टर के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं।

 

रेलवे में स्टेशन मास्टर बनने के लिए आयु सीमा

रेलवे में स्टेशन मास्टर बनने के इच्छुक उम्मीदवारों की आयु कम से कम 18 वर्ष और अधिकतम 32 वर्ष होनी चाहिए। हालाँकि, आरक्षित श्रेणियों के उम्मीदवारों को नियमों के अनुसार आयु में कुछ छूट प्रदान की जाती है।

रेलवे में स्टेशन मास्टर कैसे बने?

रेलवे में स्टेशन मास्टर बनने के लिए आपको जल्दी तैयारी शुरू करनी होगी क्योंकि परीक्षा आसान नहीं है। आइए जानें कैसे:

1. 10वीं, 12वीं और ग्रेजुएशन अच्छे से पास करें

अगर आप रेलवे में स्टेशन मास्टर बनना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले किसी भी स्कूल से 10वीं कक्षा पास करनी होगी। इसके बाद आपको किसी भी कॉलेज से किसी भी विषय के साथ 12वीं कक्षा की परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी। इसके बाद आपको किसी भी यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करनी होगी। एक बार जब आप अपना स्नातक पूरा कर लेते हैं, तो आप रेलवे में स्टेशन मास्टर के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं।

 

2. स्टेशन मास्टर के लिए पहले से तैयारी करें

इसके लिए आपको हाई स्कूल खत्म होने के बाद से ही तैयारी शुरू कर देनी चाहिए। जैसे ही आप 12वीं कक्षा की परीक्षा उत्तीर्ण करते हैं, आप स्नातक की डिग्री प्राप्त करने के लिए कॉलेज में प्रवेश लेते हैं। उस दौरान आपको रेलवे भर्ती बोर्ड के माध्यम से स्टेशन मास्टर पद के लिए भी तैयारी करनी चाहिए। इसकी तैयारी आप घर बैठे कोचिंग या ऑनलाइन माध्यम से कर सकते हैं।

 

3. रेलवे स्टेशन मास्टर परीक्षा

स्टेशन मास्टर बनने के लिए उम्मीदवारों को दो चरणों में लिखित परीक्षा देनी होती है। ये इस प्रकार हैं:

प्रारंभिक परीक्षा: इस परीक्षा में आपसे सामान्य ज्ञान, संख्यात्मक योग्यता और अंग्रेजी जैसे विभिन्न विषयों से 100 वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे जाएंगे। परीक्षा पूरी करने के लिए आपको 90 मिनट का समय दिया जाएगा। रेलवे बोर्ड प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 1/3 अंक काटता है।

मुख्य परीक्षा: प्रारंभिक परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले अभ्यर्थियों को तय कार्यक्रम के अनुसार मुख्य परीक्षा के लिए बुलाया जाता है। इस परीक्षा में सामान्य जागरूकता, गणित, सामान्य बुद्धिमत्ता और रीजनिंग पर आधारित प्रश्न होते हैं। परीक्षा कुल 120 अंकों की होती है और इसे पूरा करने के लिए उम्मीदवारों को 90 मिनट का समय दिया जाता है। इस परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग भी लागू है.

 

4. मेडिकल टेस्ट

इन दोनों परीक्षाओं में उत्तीर्ण होने के बाद उम्मीदवारों को मेडिकल टेस्ट के लिए बुलाया जाता है। इस परीक्षण के तहत उम्मीदवारों की आंखों और शरीर के अंगों की जांच की जाती है ताकि यह निर्धारित किया जा सके कि वे स्वस्थ हैं या नहीं। इसलिए पढ़ाई के साथ-साथ खुद को मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रखना भी जरूरी है। यदि आप दोनों तरह से स्वस्थ हैं, तो आप आसानी से मेडिकल टेस्ट में उत्तीर्ण हो सकते हैं।

 

5. ज्वाइनिंग लेटर प्राप्त करें

मेडिकल टेस्ट में सफल होने के बाद रेलवे द्वारा एक मेरिट लिस्ट जारी की जाती है। उसके बाद, आपको एक ज्वाइनिंग लेटर प्राप्त होता है। इसके बाद आप रेलवे के अंतर्गत स्टेशन मास्टर बन सकते हैं।

 

नोट: ऊपर दी गई जानकारियां अलग -अलग स्रोत और कुछ व्यक्तिगत सलाह पर आधारित है। हम उम्मीद करते है की ये आपके कैरियर में सही दिशा प्रदान करेगा। ऐसे ही latest information के लिए देश-विदेश, शिक्षा, रोजगार, कैरियर से जुड़े तरह - तरह के आर्टिकल पढ़ते रहिए Sabkuz.com पर।

Leave a comment


ट्रेंडिंग