कुंडली दोष क्या है? कुंडली दोष कितने प्रकार के होते है?

कुंडली दोष क्या है? कुंडली दोष कितने प्रकार के होते है?
Last Updated: Mon, 30 Jan 2023

कुंडली दोष क्या है? कुंडली दोष कितने प्रकार के होते है?

आमतौर पर लोग अपने जीवन में हर निराशा, दुःख और असफलता का कारण उनकी जन्म कुंडली में मौजूद ज्योतिषीय दोषों को मानते हैं। बिना ज्यादा सोचे-समझे हमारे जीवन की हर अच्छी या बुरी घटना के लिए अक्सर ज्योतिषीय दोषों को जिम्मेदार ठहराया जाता है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है या विचार करने की कोशिश की है कि क्या वाकई आपकी जन्म कुंडली में कोई दोष है, या फिर किसी ने आपको डराने के इरादे से जानबूझकर आपकी कुंडली में ऐसे दोष पैदा कर दिए हैं? वास्तव में आपकी जन्म कुंडली में ग्रह या ज्योतिषीय दोष मौजूद हो सकते हैं, जो आश्चर्य की बात नहीं है। असल में ये ज्योतिषीय दोष क्या हैं? क्या इनका परिणाम हमेशा आपके लिए नकारात्मक होता है? इसे निर्धारित करना महत्वपूर्ण है. आइए इस लेख में जानें कि ज्योतिषीय दोष क्या हैं और जन्म कुंडली में किस प्रकार के दोष हो सकते हैं।

 

ज्योतिषीय दोष क्या हैं?

ज्योतिषीय दोष जन्म कुंडली में ग्रहों की प्रतिकूल स्थिति और प्रभाव को संदर्भित करते हैं। जब भी किसी अशुभ ग्रह जैसे राहु, केतु, शनि और मंगल का प्रभाव कुंडली को प्रभावित करता है तो इससे जन्म कुंडली में दोष का निर्माण होता है। कुंडली में ग्रहों की प्रतिकूल या कोणीय स्थिति के कारण भी दोष उत्पन्न हो सकते हैं।

ये भी पढ़ें:-

 

जन्म कुंडली में दोष कैसे बनते हैं?

जन्म कुंडली में दोष ग्रहों की नकारात्मक स्थिति के कारण होते हैं। जब कोई ग्रह नीच राशि में होता है या लग्न राशि पर अशुभ प्रभाव डालता है तो यह जन्म कुंडली में दोष उत्पन्न करता है। मान्यताओं के अनुसार ये दोष पिछले जन्मों से भी जुड़े हो सकते हैं। जब किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में दोष बन रहे होते हैं तो उस दौरान संबंधित ग्रह शुभ फल देने की बजाय नकारात्मक फल देने लगता है।

 

जन्म कुंडली में दोषों की अवधि कितनी होती है?

जन्म कुंडली में दोष बनने की अवधि परिस्थिति पर निर्भर करती है। ये दोष अल्प अवधि या लम्बे समय तक विद्यमान रह सकते हैं। ज्योतिषीय मान्यताओं के अनुसार यदि जन्म कुंडली में होने वाले दोषों का उपाय न किया जाए तो इन दोषों का प्रभाव लंबे समय तक रह सकता है। उदाहरण के लिए, मांगलिक दोष को कम करने के लिए किसी को दूसरे मांगलिक से विवाह करना पड़ सकता है या अन्य ज्योतिषीय उपाय करने पड़ सकते हैं। इसी प्रकार यदि शनि से संबंधित कोई दोष हो तो उसकी अवधि लंबी हो सकती है। उदाहरण के लिए, शनि की साढ़ेसाती साढ़े सात साल तक चलती है। जब कोई ग्रह जन्म कुंडली के किसी खास घर में नीच स्थिति में होता है तो वह उस घर में शुभ फल प्रदान करता है। कुंडली में पीड़ित दोष राहु और शनि की युति के कारण बनते हैं, जो पिछले जन्मों के परिणामों से जुड़े हुए माने जाते हैं।

ज्योतिष दोषों के प्रकार

 

शनि दोष

जन्म कुंडली में शनि दोष अत्यंत अशुभ माना जाता है। जब जन्म कुंडली में शनि पीड़ित होता है, तो यह सामाजिक शर्मिंदगी और करियर, नौकरी और व्यवसाय में असफलताओं का कारण बन सकता है।

 

मांगलिक दोष

मांगलिक दोष तब होता है जब मंगल जन्म कुंडली के पहले, चौथे, सातवें, आठवें या बारहवें घर में होता है। इससे विवाह संबंधी समस्याएं, रक्त संबंधी रोग और जमीन-जायदाद संबंधी समस्याएं उत्पन्न होती हैं।

 

कालसर्प दोष

कालसर्प दोष राहु और केतु की युति के कारण बनता है। यह संतान, धन और जीवन के अनुभवों से संबंधित परेशानियों का कारण बनता है।

 

प्रेत दोष

जब राहु पहले घर में चंद्रमा के साथ संरेखित होता है या जब पांचवें और नौवें घर में पापी ग्रह होते हैं, तो यह भूत, बुरी आत्माओं या नकारात्मक ऊर्जा से संबंधित प्रभाव पैदा करता है।

 

पितृ दोष

पितृ दोष तब होता है जब जन्म कुंडली में सूर्य, चंद्रमा, राहु या शनि एक ही घर में होते हैं। इससे संतान संबंधी अनेक परेशानियां उत्पन्न होती हैं।

 

चांडाल दोष

जब जन्म कुंडली में गुरु (बृहस्पति) और राहु एक सीध में हों तो इसे चांडाल दोष कहा जाता है। इसका परिणाम नकारात्मक संगति और अनुभवों के रूप में सामने आता है।

 

ग्रहण दोष

ग्रहण दोष तब होता है जब सूर्य या चंद्रमा राहु या केतु के साथ संरेखित होता है। यह डर की भावना पैदा करता है और काम में देरी और बाधाओं का कारण बनता है।

 

अमावस्या दोष

अमावस्या दोष तब होता है जब जन्म कुंडली विश्लेषण के दौरान सूर्य और चंद्रमा एक ही घर में होते हैं। यह मानसिक स्थिरता को प्रभावित करता है और विभिन्न चुनौतियाँ पैदा करता है।

 

केमद्रुम दोष

केमद्रुम दोष चंद्रमा से संबंधित है। यह तब बनता है जब चार्ट में चंद्रमा के आसपास कोई ग्रह नहीं होता है।

 

क्या उपाय से दोषों से मुक्ति मिलती है?

कहते हैं जहां समस्या होती है, वहां समाधान भी होते हैं। ज्योतिष दोषों के प्रभाव को कम करने के लिए ज्योतिषी अक्सर विभिन्न उपाय सुझाते हैं। हालाँकि, सच्चाई तो यह है कि जन्म कुंडली के दोषों से पूर्ण मुक्ति संभव नहीं है। कमजोर ग्रहों को मजबूत करने से वे कम प्रभावी हो सकते हैं, लेकिन वास्तव में इन दोषों पर काबू पाने के लिए सही व्यवहार और नैतिक मूल्यों को अपनाना आवश्यक है। यदि कोई अपने आचरण में सुधार नहीं करता है और आँख बंद करके ज्योतिषीय उपचार करता है, तो उसे कोई सकारात्मक परिणाम मिलने की संभावना नहीं है।

 

जन्म कुंडली में दोष कैसे पहचानें?

यदि आपको ज्योतिष के विभिन्न पहलुओं की गहरी समझ है, तो आप अपनी जन्म कुंडली का विश्लेषण स्वयं कर सकते हैं। हालाँकि, हमारी सलाह है कि केवल सॉफ्टवेयर या तकनीकी गणनाओं पर निर्भर रहने के बजाय जानकार ज्योतिषियों से मार्गदर्शन लें।

Leave a comment

ट्रेंडिंग