पांडव और कौरवों के बिच महाभारत का युद्ध पांच गांवों के कारण हुआ था,जानें कौन से थे वे पांच गांव

पांडव और कौरवों के बिच महाभारत का युद्ध पांच गांवों के कारण हुआ था,जानें कौन से थे वे पांच गांव
Last Updated: 18 फरवरी 2024

पांडव और कौरवों के बिच महाभारत का युद्ध पांच गांवों के कारण हुआ था,जानें कौन से थे वे पांच गांव   Mahabharata war between Pandavas and Kauravas took place due to five villages, know which were those five villages

महाभारत के युद्ध का कोई निश्चित कारण नहीं था। न तो द्रौपदी का कौरवों को अंधे का बेटा कहकर ताना देना, न ही पांडवों द्वारा मांगे गए केवल पांच गांव देने से इंकार करना, न ही एक इंच जमीन भी न देने की जिद ने युद्ध के ऐसे बीज बोए थे, जिनकी किसी ने कल्पना भी नहीं की थी। न तो द्रौपदी को पता था कि एक छोटा सा मजाक इतना महंगा पड़ सकता है और न ही कौरवों को पता था कि संसाधनों की कमी वाले पांडव उनके शासन को चुनौती दे सकते हैं। महाभारत का युद्ध कई कारणों से हुआ जिनमें सबसे बड़ा था भूमि या राज्य का बंटवारा। कई दिनों की जद्दोजहद के बाद जब कोई हल नहीं निकला तो द्युतक्रीड़ा के पासे के खेल का आयोजन किया गया। पासे के खेल में, पांडव इंद्रप्रस्थ सहित सब कुछ हार गए, उन्हें अपमान सहना पड़ा, द्रौपदी का चीरहरण हुआ और अंततः उन्हें 12 साल का वनवास दिया गया। वनवास के दौरान पांडवों ने कई राजाओं से मित्रता कर अपनी शक्ति बढ़ाई और कौरवों से युद्ध करने का संकल्प लिया।

वनवास समाप्त होने के बाद दुर्योधन को प्रस्ताव भेजा गया कि यदि वह राज्य का विभाजन करना चाहता है तो वह हस्तिनापुर की राजगद्दी पर अपना दावा छोड़ दे। युद्ध का समाचार सुनकर सभी राजाओं ने भी अपना-अपना पक्ष निश्चित कर लिया। अंत में दुर्योधन और अर्जुन ने श्रीकृष्ण से सहायता मांगी। जब दोनों मदद मांगने पहुंचे तो बिस्तर पर सो रहे थे। अर्जुन और दुर्योधन क्रमशः श्रीकृष्ण के चरणों और सिर के पास बैठ गये। जब श्री कृष्ण जागे तो उन्होंने सबसे पहले अर्जुन को अपने चरणों में बैठे हुए देखा, इसलिए उन्होंने सबसे पहले अर्जुन को उनकी विनती सुनने का अधिकार दिया।

श्री कृष्ण ने अर्जुन और दुर्योधन दोनों को संबोधित करते हुए कहा कि जैसा कि आप जानते हैं कि मेरे पास वीरों की नारायणी सेना है, लेकिन मेरे लिए आप दोनों समान हैं, इसलिए मैं वादा करता हूं कि मैं युद्ध में किसी भी हथियार का उपयोग नहीं करूंगा और मैं निहत्था ही रहूंगा। एक तरफ मेरी नारायणी सेना होगी और दूसरी तरफ मेरी नारायणी सेना होगी इसलिए अर्जुन मैं तुम्हें मुझे या मेरी नारायणी सेना को चुनने का पहला मौका देता हूं। यह सुनकर दुर्योधन चिंतित हो गया। उसने सोचा कि अवश्य ही अर्जुन नारायणी सेना की माँग करेगा, जो बहुत शक्तिशाली है। यदि ऐसा हुआ तो मैं निहत्थे श्रीकृष्ण को लेकर क्या करूंगी? वह ऐसा सोच ही रहा था कि तभी अर्जुन ने बड़ी विनम्रता से श्रीकृष्ण से कहा कि आप हथियार उठाएं या न उठाएं, युद्ध करें या न करें लेकिन मैं आपसे विनम्र निवेदन करता हूं कि आप मेरी सेना में शामिल हो जाएं। यह सुनकर दुर्योधन मन ही मन प्रसन्न हो गया।

ये भी पढ़ें:-

इतना सब होने के बाद भी भीष्म पितामह की सलाह पर धृतराष्ट्र ने संजय को दूत बनाकर पांडवों के पास मित्रता और शांति का प्रस्ताव भेजा। संजय ने उपलव्यनगरी जाकर युधिष्ठिर से मुलाकात की और शांति का प्रस्ताव रखा। युधिष्ठिर चाहते थे कि युद्ध न हो। फिर भी उन्होंने श्रीकृष्ण की सलाह लेना उचित समझा और पांडवों की ओर से श्रीकृष्ण को शांति दूत बनाकर हस्तिनापुर भेज दिया। उन्होंने संजय को यह कहकर भेजा कि यदि आप हमें केवल 5 गाँव दे दें तो हम संतुष्ट हो जायेंगे और शांति कर लेंगे।

श्रीकृष्ण दूत संजय के साथ हस्तिनापुर गये। वहां श्रीकृष्ण ने पांडवों के सामने शांति प्रस्ताव की शर्त रखी। दुर्योधन ने अपने पिता को शांति प्रस्ताव स्वीकार करने से रोकते हुए कहा कि पिताजी, आप पांडवों की चाल को समझ नहीं रहे हैं, वे हमारी विशाल सेना से डरते हैं इसलिए केवल 5 गाँवों की माँग कर रहे हैं और अब हम युद्ध से पीछे नहीं हटेंगे। 

श्रीकृष्ण ने सभा में कहा, "हे राजन! आप जानते हैं कि पांडव शांतिप्रिय हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वे युद्ध के लिए तैयार नहीं हैं। पांडव आपको अपना पिता मानते हैं, इसलिए आपको सही निर्णय लेना चाहिए।" " श्रीकृष्ण ने अपनी बात जारी रखते हुए दुर्योधन से कहा कि दुर्योधन, मैं केवल यही चाहता हूं कि तुम पांडवों को उनका आधा राज्य लौटा दो और उनके साथ शांति कर लो। यदि आप इस शर्त से सहमत हैं तो पांडव आपको युवराज के रूप में स्वीकार कर लेंगे।

धृतराष्ट्र ने अपने पुत्र को समझाया कि यदि केवल 5 गाँव देने से युद्ध टल जाता है, तो इससे अच्छी बात क्या हो सकती है, इसलिए अपनी जिद छोड़ो और पांडवों से संधि कर लो ताकि इस विनाश को टाला जा सके। दुर्योधन ने अब क्रोधित होकर कहा कि पिताजी मैं उन पांडवों को घास का एक तिनका भी नहीं दूंगा और अब फैसला युद्ध के मैदान में ही होगा।

धृतराष्ट्र, भीष्म पितामह और गुरु द्रोण द्वारा दुर्योधन को समझाने के प्रयास के बाद भी वह अपनी जिद पर अड़ा रहा और अपनी माता गांधारी की भी बात नहीं मानी। तब शांति के दूत बने श्री कृष्ण को एहसास हुआ कि शांति स्थापित करने की संभावना गायब हो गई है, और वे उपलव्यनगरी लौट आए।

ये पांच गांव इस प्रकार थे:

श्रीपत (सिही) या इंद्रप्रस्थ

कभी श्रीपत तो कभी इन्द्रप्रस्थ का उल्लेख मिलता है। वर्तमान समय में इस क्षेत्र का वर्णन महाभारत में इंद्रप्रस्थ के रूप में है। जब पांडवों और कौरवों के बीच संबंधों में खटास आ गई तो धृतराष्ट्र ने यमुना के किनारे का खांडवप्रस्थ क्षेत्र पांडवों को देकर अलग कर दिया था। यह क्षेत्र वीरान और दुर्गम था, लेकिन मयासुर की मदद से पांडवों ने इसे बसा लिया था। पांडवों ने मयासुर की सहायता से यहां एक किला और महल बनवाया था। उन्होंने इस क्षेत्र का नाम इन्द्रप्रस्थ रखा।

 

बागपत

महाभारत काल में इस क्षेत्र को व्याघ्रप्रस्थ कहा जाता था। व्याघ्रप्रस्थ का अर्थ है बाघों का स्थान या बाघों का निवास स्थान। यहां सैकड़ों वर्षों से बाघ पाए जाते रहे हैं। यह वह क्षेत्र है जहां कौरवों ने मोम का महल बनाकर पांडवों को जलाने की साजिश रची थी।

 

सोनीपत

सोनीपत को पहले स्वर्णप्रस्थ कहा जाता था। बाद में यह सोनप्रस्थ और फिर सोनीपत बन गया। स्वर्णपथ का अर्थ है 'सोने का शहर'। सोनीपत उन पांच गांवों में से एक है जिसकी मांग पांडवों ने की थी। यह स्वर्ण अर्थात सोना और प्रस्थ अर्थात स्थान का मिश्रण है। सोनीपत भी इस समय हरियाणा में है।

 

पानीपत

पानीपत को पहले पाण्डुप्रस्थ कहा जाता था। यह स्थान भारतीय इतिहास में बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यहां तीन प्रमुख युद्ध लड़े गए थे। यह पानीपत कुरूक्षेत्र के पास है, जहां महाभारत का युद्ध हुआ था। पानीपत राजधानी नई दिल्ली से 90 किलोमीटर उत्तर में है। इसे 'बुनकरों का शहर' भी कहा जाता है।

 

तिलपत

तिलप्रस्थ पांडवों द्वारा मांगे गए पांच गांवों में से एक था। तिलपत को पहले तिलप्रस्थ कहा जाता था। यह हरियाणा के फ़रीदाबाद जिले का एक शहर है।

Leave a comment

ट्रेंडिंग