भगवान शिव की पूजा करते समय इन बातों का रखें खास ध्यान, भगवान शिव को ये चीजें भूल से भी न करें अर्पित

भगवान शिव की पूजा करते समय इन बातों का रखें खास ध्यान, भगवान शिव को ये चीजें भूल से भी न करें अर्पित
Last Updated: 05 मार्च 2024

भगवान शिव की पूजा करते समय इन बातों का रखें खास ध्यान Keep these things in mind while worshiping Lord Shiva

हिंदू धर्म में विभिन्न प्रकार के त्योहार मनाने और भक्तिभाव से भगवान की पूजा करने का चलन है। प्रत्येक त्यौहार का अपना-अपना महत्व होता है। ऐसा ही एक त्योहार है भगवान शिव से जुड़ा सोमवार व्रत। इस दिन विशेष रूप से माता पार्वती सहित भगवान शिव की पूजा की जाती है। इस दिन भगवान शिव की पूजा करना बहुत फलदायी माना जाता है और विशेष विधि-विधान से पूजा करना लाभकारी होता है। आइए जानते हैं इस दिन भगवान शिव की पूजा करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ताकि घर में शांति के साथ-साथ समृद्धि भी बनी रहे। सोमवार को ऐसे करें पूजा सोमवार का दिन भगवान शिव को समर्पित है। इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करें, फिर शिव मंदिर जाएं और भोलेनाथ का दूध और जल से अभिषेक करें। इसके बाद माता पार्वती और नंदी को गंगा जल और दूध अर्पित करें। भगवान शिव को पान, धतूरा, बेलपत्र आदि चीजें अर्पित करें। प्रसाद के रूप में भगवान शिव को घी और चीनी से बने भोजन अर्पित करें। बाद में शिव चालीसा और आरती का पाठ करें. कहा जाता है कि इस दिन पति-पत्नी को एक साथ पूजा करनी चाहिए। इससे वैवाहिक जीवन सुखी रहता है। घर में समृद्धि और सफलता आती है। वहीं, कुंवारी लड़कियां मनचाहा वर पाने के लिए व्रत रखती हैं। इस दिन बरतें ये सावधानियां भगवान शिव की पूजा में केतकी के फूलों का प्रयोग नहीं करना चाहिए। इसके अलावा तुलसी के पत्ते, नारियल पानी भी नहीं चढ़ाना चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से भगवान शिव क्रोधित हो जाते हैं। साथ ही पूजा भी बाधित होती है. भगवान शिव को हमेशा तांबे और पीतल के बर्तन में जल चढ़ाना चाहिए। इस दिन आपको सात्विक भोजन करना चाहिए। प्याज-लहसुन, मांसाहार खाना वर्जित माना गया है। इस दिन भोलेनाथ की पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। भगवान शिव को भूलकर भी न चढ़ाएं ये चीजें सिन्दूर भगवान शिव को कभी भी सिन्दूर नहीं लगाना चाहिए क्योंकि भगवान शिव को संहारक माना जाता है इसीलिए शिवलिंग पर सिन्दूर नहीं लगाया जाता है। हल्दी शास्त्रों के अनुसार, शिवलिंग को पुरुष तत्व का प्रतीक माना जाता है और हल्दी का संबंध स्त्रियों से है। यही कारण है कि इसका प्रयोग शिवलिंग पर या शिव की पूजा में नहीं किया जाता है।

 

 

नोट: ऊपर दी गई सारी जानकारियां पब्लिक्ली उपलब्ध जानकारियों और सामाजिक मान्यताओं पर आधारित है, subkuz.com इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता.किसी भी  नुस्खे  के प्रयोग से पहले subkuz.com विशेषज्ञ से परामर्श लेने की सलाह देता हैI

Leave a comment

ट्रेंडिंग