ऑक्सीजन स्तर गिरने नहीं देगा पालक-चुकंदर का सूप, इम्युनिटी भी होती है मजबूत, कैसे करें तैयार की आपके घर में हो खुसियो का

ऑक्सीजन स्तर गिरने नहीं देगा पालक-चुकंदर का सूप, इम्युनिटी भी होती है मजबूत, कैसे करें तैयार की आपके घर में हो खुसियो का
Last Updated: Mon, 16 Jan 2023

ऑक्सीजन स्तर गिरने नहीं देगा पालक-चुकंदर का सूप, इम्‍यून‍िटी भी होगी मजबूत; ऐसे करें इसे तैयार   Spinach-beetroot soup will not let the oxygen level fall, immunity will also be b; prepare it like this

कोरोना संक्रमण के विनाशकारी प्रभाव से पीड़ित मरीजों के फेफड़ों में पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं पहुंच पा रही है। ऑक्सीजन की यह कमी उनके जीवन को खतरे में डाल रही है, क्योंकि ऑक्सीजन सिलेंडर खोजने और अस्पताल के बिस्तरों की व्यवस्था करने में बर्बाद होने वाले समय के कारण कई मरीज़ इलाज शुरू होने से पहले ही दम तोड़ देते हैं। हर तरफ मौत का तांडव है और अधिकारियों की बेबसी साफ नजर आ रही है.

इस संकट के बीच कुछ घरेलू उपाय फायदेमंद साबित हो रहे हैं। घर पर कई प्राकृतिक उपचार उपलब्ध हैं जो इस संकट के दौरान हमारी सहायता कर सकते हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक, पालक और चुकंदर से बना सूप कोरोना मरीजों में ऑक्सीजन के स्तर को गिरने से रोकता है।

डॉ. एस.के. लोहिया संस्थान के आयुर्वेदिक विशेषज्ञ पांडे ने स्वास्थ्य मंत्रालय और मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर लगभग 40 कोरोना रोगियों पर इसकी सफलता के बाद इस उपाय को अन्य रोगियों पर आजमाने का आग्रह किया है। उनका सुझाव है कि कोरोना के इलाज के लिए एलोपैथी में जो कुछ दिया जा रहा है, जैसे जिंक, विटामिन बी-12, विटामिन सी, कैल्शियम आदि, वह पालक और चुकंदर में प्राकृतिक रूप से मौजूद है। इनमें आयरन और नाइट्रिक ऑक्साइड भी प्रचुर मात्रा में होता है। आयरन से निकलने वाला नाइट्रिक ऑक्साइड रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ाता है, जिससे फेफड़ों को भरपूर ऑक्सीजन मिलती है। साथ ही, यह सूप लाल रक्त कोशिकाओं (आरबीसी) और सफेद रक्त कोशिकाओं (डब्ल्यूबीसी) दोनों को भी बढ़ाता है, जिससे कोरोना के खिलाफ शरीर की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है।

ये भी पढ़ें:-

डॉ. पांडे बताते हैं कि जब कोई व्यक्ति कोरोना से संक्रमित होता है, तो फेफड़ों में ब्रोन्किओल्स सिकुड़ने लगते हैं, जिसके परिणामस्वरूप फेफड़ों तक पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाती है। यह स्थिति फेफड़ों में पानी जमा होने के साथ निमोनिया का कारण बन सकती है। परिणामस्वरूप, रोगी के शरीर में ऑक्सीजन का स्तर तेजी से कम होने लगता है। हालांकि, पालक-चुकंदर का सूप पीने से आरबीसी बढ़ता है, जो फेफड़ों तक ऑक्सीजन पहुंचाता है। यह पर्याप्त ऑक्सीजन प्रदान करके फेफड़ों की कार्यक्षमता को बढ़ाता है, जिससे ऑक्सीजन के स्तर में तेजी से गिरावट को रोका जा सकता है। सूप में मौजूद आयरन नाइट्रिक ऑक्साइड को बढ़ाता है, जो रक्तप्रवाह के माध्यम से फेफड़ों तक पहुंचने वाली ऑक्सीजन की मात्रा को और बढ़ाता है, जिससे ऑक्सीजन के स्तर में गंभीर गिरावट को रोका जा सकता है और रोगियों को गंभीर स्थिति से बचाया जा सकता है।

न्यूरो रोगियों में रक्त संचार को बेहतर बनाने के लिए करीब दो साल से शोध किया जा रहा यह उपाय अब कोरोना रोगियों के लिए भी कारगर साबित हुआ है।

 

सूप कैसे बनाया जाता है?

एक किलोग्राम पालक और आधा किलोग्राम चुकंदर लें। इन्हें प्रेशर कुकर में बिना पानी के 10 मिनट तक उबालें। सूप में उपयोग के लिए उबले हुए पालक और चुकंदर को छान लें। फिर इसमें स्वादानुसार सेंधा नमक और नींबू का रस मिलाएं। यहां तक कि जो लोग सकारात्मक नहीं हैं वे भी अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए इस सूप का सेवन कर सकते हैं।

Leave a comment

ट्रेंडिंग