Maharashtra: महाराष्ट्र में10वीं तक पढ़े युवकों ने स्थापित की 'IT सल्यूशंस कंपनी', Online फर्जीवाड़े से नागपुर निवासी एक व्यक्ति के लाखों रुपए ठगे

Maharashtra: महाराष्ट्र में10वीं तक पढ़े युवकों ने स्थापित की 'IT सल्यूशंस कंपनी', Online फर्जीवाड़े से नागपुर निवासी एक व्यक्ति के लाखों रुपए ठगे
Last Updated: Mon, 01 Jul 2024

महाराष्ट्र मेंIT सल्यूशंस कंपनीस्थापित कर दसवीं तक पढ़े तीन युवकों ने Online फर्जीवाड़े के जरिये नागपुर के निवासी एक व्यक्ति से कथित तौर पर पांच लाख रुपये हड़प लिए। पुलिस ने रविवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि मुंबई से तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

नागपुर न्यूज़: इन दिनों धोखाधड़ी के मामलों में तेजी से बढ़ रहे हैं। इस दौरान महाराष्ट्र में रविवार को ठगी मामले की एक खबर मे सबको चौंका दिया। राज्य के के नागपुर जिले में महज 10वीं क्लास तक की पढ़ाई करने वाले तीन युवकों ने एक 'आईटी सॉल्यूशन कंपनी' की स्थापना की। इसके बाद तीनों ने नागपुर के रहने वाले एक शख्स के साथ ऑनलाइन फर्जीवाड़ा कर कर उससे पांच लाख रुपये हड़प लिए। फ़िलहाल पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

10 वीं क्लास तक पढ़े थे युवक

नागपुर साइबर पुलिस के अधिकारी ने subkuz.com टीम को जानकारी देते हुए बताया कि तीनों को गिरफ्तार कर लिया गया है। दरअसल, तीनों आरोपी केवल 10वीं क्लास तक पढ़े-लिखे थे। तीनों ने मिलाकर ऑनलाइन ठगी और धोखाधड़ी करने के लिए सबसे पहले IT साल्यूशंस कंपनी का निर्माण किया। उसके बाद लोगों से पैसे हड़पने शुरू कर दिए। ऐसे में सबसे पहले अपना शिकार नागपुर के रहने वाले एक शख्स को बनाया जिसके 5 लाख रुपए ठगे।

आरोपियों की पहचान

ये भी पढ़ें:-

मिली जानकारी के अनुसार, गिरफ्तार किए गए लोगों की पहचान पालघर के विरार निवासी 32 वर्षीय अतुल इंद्रपति सिंह, 26 वर्षीय नालासोपारा निवासी नीरज शामकुमार चौबे और 23 वर्षीय दहिसर निवासी विकास मेघलाल साव शामिल है। पुलिस ने जांच के दौरान बताया कि तीनों आरोपियों ने ने हाल ही में समर्थ IT सल्यूशंस नाम की एक कंपनी स्थापित की और गूगल पर अपनी डिटेल्स अपलोड की थी, ताकि लोग आसानी से उनसे संपर्क कर सकें।

कैसे आया मामला सामने?

पुलिस अधिकारी ने बताया कि इसी साल मई में, नागपुर स्थित महल इलाके में रहने वाले शख्स अतुल उइके को अपने मोबाइल पर 'Phone Pay App' के साथ भरी समस्या का सामना करना पड़ा। बताया कि उन्होंने Google अकाउंट पर कस्टमर केयर से संपर्क करके जानकारी सर्च की तो समर्थ आईटी सॉल्यूशंस के नंबर मिले। बताया कि उनसे संपर्क करने के बाद, उनके द्वारा दिए गए निर्देशों के मुताबिक अतुल उइके ने वीडियो कॉल की, जिसके तहत जालसाजों ने उनके फोन की सेटिंग्स में हेरफेर किया और कहा कि रात तक App काम करना शुरू कर देगा।

आरोपियों ने पांच लाख रुपये ठगे

पुलिस अधिकारी ने जानकारी देते हुए आगे बताया कि, अगले दो दिनों में अतुल के बैंक खाते से तीन ट्रांजेक्शन हुए। जिनमें 1.49 लाख रुपये, 1.99 लाख रुपये और 1.49 लाख रुपये के लेन-देन में लगभग 5 लाख रुपये ट्रांसफर कर लिए, जिसके बाद पीड़ित उइके ने नागपुर साइबर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई, जिसके बाद रविवार को जांच के दौरान आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया।

Leave a comment


ट्रेंडिंग